Pul-e-Charkhi Prison, Afghanistan (file)
  • दोपहर बाद हिंसा तब शुरू हुई जब कैदियों के एक समूह ने पुलिस बल पर हमला कर दिया. इस हमले में 20 पुलिसवाले घायल हो गए
  • इस हमले के एक हफ्ते पहले भी अफगानिस्तान में हुए चुनाव के दौरान तालीबान द्वारा 193 मतदान केंद्रों पर हमला किया गया था

अफगानिस्तान की पुले-चरखी जेल में मंगलवार को हुई झड़प में चार कैदियों की मौत हो गई और 33 अन्य घायल हो गए. घायलों में 20 पुलिस वाले भी शामिल हैं

आंतरिक मामलों के मंत्रालय के अनुसार ये झड़प तब शुरू हुई जब पुलिस ने जेल के कुछ कोष्ठों की तलाशी लेनी शुरू की. मंत्रालय के प्रवक्ता नसरत रहीमी ने बताया कि आंतरिक मामलों के मंत्रालय और अटॉर्नी जनरल के कार्यालय की ओर से पुले-चरखी जेल के विशेष नार्कोटिक ब्लॉक की तलाशी के आदेश दिए गए थे. सुबह के समय में चार बिल्डिंग की तलाशी ले ली गई थी. लेकिन दोपहर बाद हिंसा तब शुरू हुई जब कैदियों के एक समूह ने पुलिस बल पर हमला कर दिया. इस हमले में 20 पुलिसवाले घायल हो गए.

रिपोर्ट के मुताबिक, हमलावर कैदियों को रोकने के लिए पुलिस ने हवा में गोलियां भी चलाईं. झड़प के दौरान कैदियों ने पुलिस के हथियार छीनने के प्रयास किए. बाद में स्थिति को नियंत्रित कर लिया गया. फिलहाल मामले की जांच शुरू कर दी गई है.

हमलों का केंद्र रहा है अफगानिस्तान :

साल 2018 में पुल-ए-चरखी जेल के कर्मचारियों को ले जा रहे वाहन को निशाना बनाकर बम विस्‍फोट किया गया था. इस हमले में 7 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं 5 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

इस हमले के एक हफ्ते पहले भी अफगानिस्तान में हुए चुनाव के दौरान तालीबान द्वारा 193 मतदान केंद्रों पर हमला किया गया था. इस हमले में 27 नागरिक, 9 सुरक्षाबलों और 31 विद्रोहियों की मौत हो गई थी.

वहीं अफगानिस्तान के कंधार में बड़ा आतंकी हमला हुआ था जिसमें कंधार के गवर्नर, पुलिस चीफ और इंटेलीजेंस चीफ की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी. बताया गया कि गवर्नर के सुरक्षा गार्डों ने ही इनकी हत्या की थी.

हिन्दुस्थान समाचार/सुप्रभा

Trending tags – Afghanistan Central jail | International news | Crime news | Afghanistan | News today