कभी इनमें थी बेहद नजदीकियां अब चुनावी मैदान में होगा मुकाबला

रायबरेली: कभी रायबरेली में सोनिया गांधी के करीबी रहे एमएलसी दिनेश सिंह 2019 लोकसभा चुनाव में उनको चुनौती देंगे. बीजेपी ने रायबरेली से सोनिया गांधी के खिलाफ टिकट देकर मुकाबले को रोचक बना दिया है.


बीजेपी से टिकट मिला तो समर्थकों में आया जोश– रायबरेली में बुधवार को जैसे ही दिनेश सिंह को बीजेपी से टिकट मिलने की सूचना पहुंची तो उनके समर्थकों में जोश आ गया. दो बार एमएलसी रहे दिनेश प्रताप सिंह ने राजनीति की शुरुआत सपा से की थी. बाद में वे बसपा में भी रहे. 2009 में वे कांग्रेस में आ गए.

2017 के बाद बढ़ी नजदीकियां– 2010 में दिनेश सिंह ने कांग्रेस के समर्थन से स्थानीय निकाय के एमएलसी का चुनाव लड़े और जीत गए. पार्टी ने 2017 में उन्हें दोबारा एमएलसी का चुनाव लड़ाया और वे फिर से विजयी रहे. इस दौरान दिनेश प्रताप सिंह रायबरेली में सोनिया गांधी और प्रियंका वाड्रा के काफी नजदीक आ गए.

2018 में बीजेपी में हुए शामिल– दिनेश सिंह की गिनती सोनिया के खास लोगों में होने लगी लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस से उनकी नाराजगी बढ़ने लगी. इस बीच वे बीजेपी के संपर्क में आये और अप्रैल 2018 में उन्होंने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल हो गए.

राजनीति में परिवार भी शामिल– पिछले एक साल से दिनेश सिंह काफी मुखर होकर गांधी परिवार पर वार कर रहे हैं. रायबरेली में राजनीतिक रूप से अहमियत रखने वाला दिनेश सिंह का परिवार अन्य महत्वपूर्ण पदों पर है. 2017 के विधानसभा चुनाव में उनके छोटे भाई को हरचंदपुर विधानसभा से कांग्रेस का टिकट मिला जिसमें वे कड़े मुकाबले में चुनाव जीत गए.

कांग्रेस के गढ़ में सेंध लगाने की तैयारी में बीजेपी– दिनेश के एक भाई अवधेश सिंह वर्तमान में जिला पंचायत अध्यक्ष भी हैं. बीजेपी ने दिनेश सिंह को सोनिया के खिलाफ उम्मीदवार बनाकर स्थानीय स्तर पर कांग्रेस के गढ़ में सेंध करने की तैयारी की है. माना जा रहा है कि सोनिया गांधी को वे कड़ी टक्कर दे सकते हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/रजनीश/सुनीत

%d bloggers like this: