दिल्ली हिंसा में पूर्व JNU छात्र उमर खालिद गिरफ्तार, लंबी पूछताछ के बाद हुई कार्रवाई

umar khalid
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के पूर्व छात्रनेता उमर खालिद (Umar Khalid) को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल ने दिल्ली हिंसा (Delhi Riots) मामले को लेकर गिरफ्तार कर लिया है. ये गिरफ्तारी रविवार देर रात हुई. खालिद की गिरफ्तारी गैर-कानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (Unlawful Activities Prevention Act) यानी UAPA के तहत हुई है.

आपको बता दें कि दिल्ली में जो हिंसा हुई थी उसमें तिरपन लोगों की मौत हुई थी और 200 के करीब घायल हुए थे. इसी से जुड़े एक मामले को लेकर खालिद की गिरफ्तारी हुई है.

फिलहाल जो एफआईआर दर्ज हुई है उसके अनुसार, खालिद ने कथित तौर पर दो अलग-अलग जगहों पर भड़काऊ भाषण दिए थे. FIR में ये भी कहा गया है कि खालिद ने अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान नागरिकों से बाहर निकलकर सड़कें ब्‍लॉक करने को कहा ताकि अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर प्रॉपेगैंडा फैलाया जा सके.

अब स्पेशल सेल 17 सितम्बर को जो चार्जशीट पेश करने वाली है उसमें उमर खालिद की पूरी भूमिका के बारे में बताया गया है. दिल्ली पुलिस का कहना है कि उसके पास खालिद के खिलाफ पर्याप्‍त सबूत हैं. वहीं खालिद के वकील ने इन सभी आरोपों को पूरी तरह ‘झूठ और मनगढ़ंत’ करार दिया है.

कौन है उमर खलिद

उमर खालिद महाराष्ट्र में अमरावती के तालेगांव का रहने वाला बताया जाता है. लगभग तीन दशक पहले खालिद का परिवार दिल्ली आकर बस गया था. दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से बैचलर्स डिग्री लेने के बाद उसने जेएनयू का रुख किया. यहां से मास्‍टर्स और एम.फिल करने के बाद उसने पीएचडी पूरी की. पढ़ाई के साथ-साथ खालिद की दिलचस्‍पी ऐक्टिविज्‍म में भी रही है. वो छात्रनेता रहा है और कई सार्वजनिक मंचों से केंद्र की बीजेपी सरकार पर तीखे हमले किया करता था.

साल 2016 में पहली बार उमर खलिद ने सुर्खियां बटोरीं थीं. जेएनयू में संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी के खिलाफ कथित तौर पर एक कार्यक्रम हुआ था जिसके बाद खालिद समेत तब जेएनयूएसयू के अध्यक्ष कन्‍हैया कुमार और 7 अन्‍य स्‍टूडेंट्स के खिलाफ राष्‍ट्र्रद्रोह का केस दर्ज किया गया था. पुलिस ने इनको गिरफ्तार भी किया लेकिन बाद में कोर्ट से जमानत मिल गई थी.

वहीं साल 2018 में भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा से जुड़ी एक एफआईआर में उमर खालिद का भी नाम था. खालिद पर अपने भाषण के जरिए दो समुदायों में नफरत फैलाने का आरोप लगा .

इससे पहले भी उमर का नाम कई तरह के विवादों में आ चुका है. जेएनयू कैंपस में अपने कुछ साथियों के साथ हिंदू देवी देवताओं की आपत्तिजनक तस्वीरें लगाकर नफरत फैलाने के मामले में आया था. उमर कई मौकों पर कश्मीर की आजादी की मांग भी उठा चुका है.