हितों के टकराव मामले में लक्ष्मण ने दिया जवाब, COA के अस्तित्व पर भी उठाए सवाल
  • भारतीय क्रिकेट में सेवाएं देना चाहते था और इसी वजह से मैनें सीएसी में शामिल होने का फैसला किया
  • इसी के साथ लक्ष्मण ने सीएसी के अस्तित्व पर भी सवाल उठाएं

नई दिल्ली. भारत के पूर्व क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने बीसीसीआई लोकपाल के भेजे गए नोटिस पर जवाब देते हुए अपना पक्ष रखा है. लक्ष्मण ने इस मसले पर कहा कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट की सेवा करने के लिए सीएसी में पदभार संभाला था.

वे खुद किसी तरह से हितों के टकराव के जंजाल में फंसने से बचना चाहते है. लक्ष्मण ने अपने वकील द्वारा लिखे गए पत्र में कहा है कि संन्यास लेने के बाद भी मैं भारतीय क्रिकेट में सेवाएं देना चाहते था और इसी वजह से मैनें सीएसी में शामिल होने का फैसला किया.

हम भारतीय क्रिकेट को अपने अनुभव से आगे ले जाना चाहते थे. भारत को क्रिकेट सुपर पावर बनाने के मौके ने मुझे इस प्रस्ताव को मंजूर करने के लिए प्रेरित किया था. जो भी आरोप मेरे ऊपर लगाए गए हैं. वे निराधार हैं क्योंकि हम किसी भी खिलाड़ी और कोच का चयन नहीं करते हैं.

सीएसी एक स्थायी समिति नहीं है. इसके अलावा लक्ष्मण ने अपने पत्र में प्रशासकों की समिति के साथ तालमेल की कमी की भी बात को भी स्वीकारा. लक्ष्मण ने कहा कि सीओए ने सीएसी के सदस्यों को यह सही ढ़ंग से नहीं बताया था कि आखिरकार यह समिति काम कैसे करेगी.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि पिछले साल दिसंबर में हमने सीओए को एक पत्र लिखा था. जिसमें हमने इस बात कि मांग रखी थी कि हमें हमारी जिम्मेदारियों के बारे में साफ तौर पर बताया जाए. जिसका अभी तक भी कोई जवाब नहीं मिला है. वहीं 2015 में जो आदेश दिया गया था उसमें किसी भी तरह के कार्यकाल की बात नहीं बताई गई थी.

इसी के साथ लक्ष्मण ने सीएसी के अस्तित्व पर भी सवाल उठाएं . लक्ष्मण ने कहा कि हम शुरुआत में जिस तरह की जिम्मेदारी के बारे में सोच रहे थे उस तरह का काम तीनों में से किसी को नहीं सौंपा गया. लक्ष्मण ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि सीएसी अस्तित्व में है या नहीं इसलिए वह हितों के टकराव के मसले में नहीं आते हैं.

Trending Tags- IPL 2019, IPL 2019 Live, Indian Premier League, COA, IPL 2019 Venue, IPL 2019 Live Score, Sachin Tendulkar, Sports News in Hindi.

%d bloggers like this: