भारत में बढ़ा रहा FOOD POISONING का खतरा…
  • आज के समय में देश भर में हर साल हजारों लोग फूड पॉयजनिंग का शिकार हो रहे हैं
  • रिपोर्ट के मुताबिक ये देखने को मिला है कि भारत में हर साल लगभग 15 लाख 70 हजार लोग फूड पॉयजनिंग से मर जाते हैं

फूड प्वाइजनिंग आज कल के लाइफस्टाइल के कारण एक आम बीमारी बन गई है. आमतौर पर कामकाजी कपल दिन में बाहर से खाना खाते हैं. शायद यही कारण है कि आज के समय में लोगों में फूड पॉयजनिंग के केस ज्यादा सामने आ रहे हैं.

आज के समय में देश भर में हर साल हजारों लोग फूड पॉयजनिंग का शिकार हो रहे हैं. इसकी वजह से किसी को हॉस्पिटल में एडमिट होना पड़ता है या कई बार लोगों की जान भी जान जा सकती है.

हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक ये देखने को मिला है कि भारत में हर साल लगभग 15 लाख 70 हजार लोग फूड पॉयजनिंग से मर जाते हैं. ये आंकड़ा अपने आप में काफी हैरान करने वाला है.

वहीं इस आंकड़े के समाने आने के बाद ये भी बता दें कि भारत विश्व में दूसरे नंबर पर है जहां खराब खाने से मौतें होना आम है. जबकि चीन में खराब खाना खाने के कारण सबसे ज्यादा लोगों को जान से हाथ धोना पड़ता है.

वहीं अगर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के इंटीग्रेटेड डीजीज सर्विलांस प्रोग्राम की रिपोर्ट को देखें तो सामने आता है कि सन 2008 से 2017 के बीच में फूड पॉयजनिंग ने एक बड़ी बीमारी की तरह अपने पैर पसारे हैं.

अगर इस साल की बात करें तो सिर्फ एक हफ्ते यानी 6 से 12 मई के बीच में कुल 14 मामले फूड पॉइजनिंग के दर्ज किए गए हैं.

वहीं अगर वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट का हवाला दिया जाए तो खाने से कई तरह की बीमारियों के होने का खतरा रहता है. वहीं हर साल भारत में फूड पॉयजनिंग के मामलों में भी बढ़ोतरी हो रही है.

इन बीमारियों से होने वाले खतरे को ध्यान में रखते हुए 2017 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति बनाई गई थी. इस नीति को बनाने का मकसद था कि पूरे देश में खाने की क्वालिटी पर ध्यान दिया जा सके.

Trending Tags: Food poison | Fast food | National health policy | World health policy | Aaj ka Samachar

1 thought on “भारत में बढ़ा रहा FOOD POISONING का खतरा…”

Leave a Comment

%d bloggers like this: