लॉकडाउन स्पेशल ट्रेन में हेंमत सोरेन की सवारी, नीतीश करते रहे तैयारी

o
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. भारत में लॉकडाउन (Lockdown) चल रहा है, इस लॉकडाउन के चलते मजदूर जहां तहां पर फंस गए हैं. कई राज्यों की सरकारें अपने यहां के लोगों को निकालने की कोशिशों में लगी हुई हैं.

कोरोना संकट के इस दौर में राज्य सरकारों की भी अग्निपरीक्षा है.आज मजदूर दिवस है और ऐसे में मजदूरों के लिए हर सरकार चाहती है कि उसके प्रदेश के लोग सकुशल वापस आ जाएं. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने तो आज यूपी के मजदूरों के लिए कई घोषणाएं भी की. 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मई दिवस पर मजदूर पॉलिटिक्स में हेमंत सोरेन से पिछड़ गए हैं? बिहार सरकार अपने मजदूरों को लाने के लिए बस प्लानिंग और मांग ही करती रह गई जबकि झारखंड के सीएम ने अपने मजदूरों को निकालने के लिए ट्रेन भी चलवा दी.

हेमंत सोरेन (Hemant Soren0 के इस कदम की विपक्ष तारीफ भी कर रहा है तो नीतीश को भी लपेटे में लिया जा रहा है. विपक्ष हेमंत सोरेन का उदाहरण देकर नीतीश पर हमलावार हैं.कह सकते हैं कि झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन मजदूर दिवस के दिन मजदूरों की पॉलिटिक्स में बिहार से आगे निकल गए.

वहीं नीतीश अपने लोगों के लिए कुछ नहीं कर पाए हैं. झारखंड के सीएम हेमंत ने एक बयान भी दिया कि भारत सरकार ने देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे मजदूरों को आने की परमीशन दे दी है. अब आपको घर पहुंचाना हमारी जिम्मेदारी बनती है. आप धैर्य रखें, सरकार आप तक जल्दी ही पहुंचेगी.

हम आपकी शीघ्र सकुशल वापसी और बेहतरी के लिए काम कर रहे हैं.दूसरे राज्य में फंसे मजदूरों को लेकर सोशल मीडिया पर हेमंत सोरेन के लिए तारीफ की गंगा बह रही है.बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव (Tejashwi yadav) ने हेमंत का उदाहरण देते हुए ट्वीट किया.

दुसरे ट्वीट में तेजस्वी  यादव ने कहा..

हेमंत की तारीफ से भरा एक और ट्वीट ये भी है.

बता दें कि तेलंगाना के लिंगमपल्ली में फंसे 1,200 प्रवासियों को झारखंड के हटिया तक ले जाने के लिए शुकव्रार को पहली विशेष ट्रेन चलाई. इस ट्रेन में सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखा गया है.

हर बोगी में केवल 54 यात्रियों को बैठने की ही अनुमति दी गई जबकि उसमें 72 लोगों के बैठने की व्यवस्था होती है. ट्रेन आज रात 11 बजे हटिया पहुंचेगी और उसमें सवार सभी प्रवासियों को अलग-अलग केंद्रों में ले जाया जाएगा.अभी सिर्फ यही एक ट्रेन चलाई गई है, बाकी जगहों पर ट्रेनें नहीं चल रही हैं.