यूपीः ‘रजावली’ गांव जो सभी गांवों के लिए बना ‘प्रेरणादायक’

फिरोजाबाद, यूपी।

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से बचाव के लिये सरकार ने गाइडलाइन जारी की है. जनपद का एक गांव ऐसा भी है जो कोरोना वायरस से बचाव के लिये सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलान का पालन करने व सोशल डिस्टेंस के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेश एवं निर्देशों का पूरी तरह से पालन कर रहा है.

  इस गांव के लोग बिना मास्क घर से नहीं निकलते हैं तथा दो गज की दूरी का भी पूरा ध्यान रखते हैं. इसलिये यह गांव अन्य राज्य, जिला व अन्य गांवों के लिए प्रेरणादायक बना हुआ है.

फिरोजाबाद के विकास खण्ड टूण्डला की ग्राम पंचायत रजावली में सौ प्रतिशत लोग मास्क लगाकर अपने-अपने कामों को करते हैं. नब्बे प्रतिशत लोगों ने आरोग्य सेतु एप्प  डाउनलोड किया है. कोरोना से बचाव के लिए प्रधान द्वारा व्हाट्सएप के दो ग्रुप बनाये गए हैं जिनमें ग्रामसभा के सभी मोबाइल को जोड़ा गया गया है. इनके माध्यम से केंद्र व राज्य सरकार द्वारा जारी आदेश, निर्देश व अन्य उपयोगी जानकारी ग्राम वासियों को दी जाती है.

 इस गांव में वृद्ध, युवा, बच्चे और महिलाएं बिना मास्क के नजर नहीं आते हैं. ग्रामीणों द्वारा शारीरिक दूरी का पूरा ध्यान रखा जाता है. ग्राम प्रधान द्वारा गांव में कई बार सैनीटाइजर कराया जा चुका है. इसके अलावा अनाउंसमेंट कराकर के ग्रामीणों को अनावश्यक घर से न निकलने, गरम पानी पीने व बार-बार साबुन से हाथ धोने के लिए जागरूक किया जाता है. इन सभी गाइडलाइनों का ग्रामीण पूरी तरह से पालन कर रहे हैं.

ग्रामीण धीरेन्द्र सिंह जादौन का कहना है कि ग्राम प्रधान द्वारा गांव में काफी सराहनीय कार्य किये गये हैं. उनके द्वारा गांव में लाउडस्पीकर से अनाउंसमेंट काफी लोकप्रिय है. हर कोई अनाउंसमेंट सुनने के लिए बे​सब्री से इंतजार करता है. जिसमें कोरोना से बचाव के लिये जागरूक किया जा रहा है.

छोटी बच्ची महक जादौन का कहना है कि हमारे प्रधानजी ने हमें मास्क दिये हैं. उन्होंने कहा है कि हमें दूर-दूर रहना है. हमको घर में ही रहना है. मास्क लगाकर रहना है. बार-बार साबुन से हाथ धोना है. इसलिये हम घर से बाहर नहीं निकलते हैं, हम खेलते भी नहीं है.

ग्राम प्रधान नीलम सिंह जादौन ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के लिये गांव के सभी लोगों को मास्क वितरित किये हैं, दो वाट्सअप ग्रुप बनाये हैं. इसके साथ ही आरोग्य सेतु एप अधिकतर मोबाइलों में डाउनलोड कराये गये हैं.

गांव में माइक से अनाउंसमेंट कराया जाता है. जिससे ग्रामीणों को घरों से अनावश्यक न निकलने, मास्क लगाने, गरम पानी पीने के लिये जागरूक किया जाता है. यही बातें ग्राम पंचायत सचिव बाबू सिंह ने भी बतायी.

 डीपीआरओ नीरज सिन्हा ने बताया कि ग्राम पंचायतों में लाॅकडाउन का पालन कराने, ग्रामीणों को कोरोना से बचाव के लिये जागरूक कराने के लिये लाडस्पीकर के माध्यम से अलाउन्समेंट कराया गया. मास्क का प्रयोग करने के लिये सभी ग्राम पंचायतों में मास्क का वितरण किया गया है. ग्राम प्रधान भी अपने स्तर से सहायता समूहों के निर्मित मास्कों का प्रयोग ग्रामीणों को करा रहे है.

मुख्य विकास अधिकारी नेहा जैन ने बताया कि कि जिला प्रशासन की यह पहल है कि वह खुद एक-एक नागरिक तक पहुंचे. इसीलिये गांव में ग्राम निगरानी समिति व शहरी क्षेत्रों में मौहल्ला निगरानी समिति का गठन किया गया है. जो प्रधान व वार्ड मेम्बर की अध्यक्षता में है. इनसे रोज फीडबैक लिया जाता है कि उनके गांव व वार्ड में कौन सदस्य है जो बाहर से आया है.

उन्होंने कहा कि जिन लोगों के भी नम्बर उपलब्ध हैं, हम लोग उनसे उनके स्वास्थ के बारें में, उन्हें राशन मिला या नहीं, या फिर कोई समस्या है तो उसकी जानकारी हम लोग स्वयं ले रहे हैं. एक तरह से फीडबैक सिस्टम हमने बनाया है ताकि हमें खुद सारी जानकारी मिल सके.

हिन्दुस्थान समाचार/कौशल राठौर

Leave a Reply

%d bloggers like this: