बाबा रामदेव, बालकृष्ण समेत 5 के खिलाफ जयपुर में FIR, लगे हैं ये आरोप

Ramdev
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

नई दिल्ली. कोरोना वायरस की दवा कोरोनिल के ऐलान के बाद से बाबा रामदेव विवादों में घिर गये हैं. इसे लेकर अब उनकी मुश्किलें भी बढ़ती ही जा रही हैं. कोरोना की दवा को लेकर रामदेव समेत अन्य चार के खिलाफ जयपुर में केस दर्ज हुआ है.

ज्योतिनगर थाने में शुक्रवार को ये एफआईआर दर्ज कराई गई. रामदेव के अलावा जिन चार लोगों पर केस दर्ज हैं, उनमे बालकृष्ण का नाम भी है. इसमें कोरोना की दवा के तौर पर कोरोनिल को लेकर लोगों को गुमराह करने वाला प्रचार करने के आरोप लगाया गया है.

शिकायत में बाबा रामदेव पर मिलावटी दवा बेचने और हत्या की कोशिश के आरोपों के तहत केस दर्ज करने की मांग की गई है. चंडीगढ़ के नेशनल कंज्यूमर वेलफेयर काउंसिल के सचिव बिक्रमजीत सिंह की ओर से ये शिकायत की गई है.

जयपुर के एफआईआर में योगगुरु रामदेव और बालकृष्ण के अलावा वैज्ञानिक अनुराग वार्ष्णेय, निम्स के अध्यक्ष डॉ. बलबीर सिंह तोमर और निदेशक डॉ. अनुराग तोमर को आरोपी बनाया गया है.

निम्स चेयरमैन के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक NIMS, जयपुर में 100 मरीजों पर दवा का ट्रायल किया गया, जिसमें 7 दिनों में 100% मरीज ठीक हो गए. हालाँकि उन्होंने कोरोनिल को इम्युनिटी बूस्टर के रूप में प्रचारित करने की सलाह दी न की कोरोना के इलाज की दवाई के तौर पर.

बता दें कि निम्स जयपुर में पतांजलि की कोरोनिल दवा के क्लिनिकल ट्रायल का दावा किया गया था. हालांकि निम्स के चेयरमैन डॉ. बीएस तोमर ने कोरोना के इलाज के दवा के ट्रायल से पल्ला झाड़ लिया था और कहा था कि ये दवा कैसे बनी इस बारे में रामदेव ही बता सकते हैं.