बिहार: चमकी बुखार से बच्चों की मौत के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले 39 लोगों के खिलाफ FIR

नई दिल्ली/पटना, 25 जून. अक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) के कारण बिहार में बच्चों की मौत का सिलसिला जारी है.

अस्पतालों में सुविधाओं की कमी और राज्य सरकार के स्तर पर हुए प्रयासों के नाकाफी साबित होने के बावजूद एक नया मामला सामने आया है. जिला प्रशासन ने बच्चों की मौत और जल आपूर्ति को लेकर प्रदर्शन कर रहे 39 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

दरअसल, एईएस के कारण बच्चों की मौत और जल आपूर्ति में कमी को लेकर वैशाली जिले के हरिवंशपुर में लोग सड़क पर उतर आए थे. लोगों ने इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और जल आपूर्ति बेहतर करने और बीमारी के खिलाफ जल्द ठोस कदम उठाने की मांग की.

जिला प्रशासन ने इनकी मांगें तो नहीं मानीं, मगर प्रदर्शन कर रहे 39 लोगों के खिलाफ एफआईआर जरूर दर्ज करा दी है.

वैशाली जिले में जिन लोगों के खिलाफ एफआईआर की गई है, उनके रिश्तेदारों ने दो टूक कहा कि जब हमारे बच्चे मर रहे हैं और हमारे पास पीने का पानी तक नहीं है तो हम विरोध क्यों ना करें?
कुछ रिश्तेदारों ने कहा कि ‘हमारे बच्चे मर रहे हैं. पीने का पानी नहीं है.

हमने इसके खिलाफ सड़क का घेराव किया तो प्रशासन ने हम पर केस दर्ज करा दिया. केस दर्ज होने के बाद हमारे परिवारों के लोग गांव छोड़कर भाग गए हैं. घर में कमाने वाले वही थे और अब उनके नहीं होने से हमें और दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा’.

बता दें कि एईएस के चलते बिहार में अब तक 150 से ज्यादा मासूम बच्चों की मौत हो चुकी है. सिर्फ मुजफ्फरपुर जिले के केएमसीएच और केजरीवाल अस्पताल में ही अब तक 130 से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है.

इंसेफेलाइटिस के चलते बच्चों की मौतों के पीछे मुख्य वजह कुपोषण और गरीबी भी बताई जा रही है. इसके लिए बिहार के आंगनबाड़ी केंद्रों की लापरवाही भी सवालों के घेरे में रही है.

कुपोषण के खिलाफ जागी सरकार
150 से ज्यादा बच्चों की मौतों के बाद जागे बिहार राज्य सामाजिक कल्याण विभाग ने इंटीग्रेटेड चाइल्ड डवलपमेंट सर्विस (आईसीडीएस) स्कीम को अधिक बल देने का फैसला किया है.

आईसीडीएस स्कीम दुनिया का सबसे बड़ा समुदाय आधारित कार्यक्रम है, जो 6 साल तक की उम्र के बच्चों के साथ-साथ गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए है. इस स्कीम का लक्ष्य समुदाय के स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा के स्तर को सुधारना है. ये सेवाएं कम्युनिटी बेस्ड आंगनबाड़ी केंद्र द्वारा दी जाती हैं.

1 thought on “बिहार: चमकी बुखार से बच्चों की मौत के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले 39 लोगों के खिलाफ FIR”

Leave a Reply

%d bloggers like this: