कृषि उड़ान योजना से किसानों की आमदनी होगी दोगुना,जानिए कैसे!

Farmers | Hindi News.
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

देश में किसानों की आमदनी को दोगुना करने के लिए मोदी सरकार प्रतिबद्ध है. इस दिशा में मोदी सरकार हर संभव प्रयास कर रही है. देश के किसानों की आमदनी को दोगुना करने के लिए विशेषज्ञों से सलाह ली जा रही है कैसे हम किसानों की आमदनी को दोगुना कर सकते हैं.

भारत सरकार की कृषि उड़ान योजना एक महत्वपूर्ण और महत्वाकांक्षी योजना है जिसका उद्देश्य किसानों की आय को दोगुना करना है. कृषि उड़ान योजना की मदद से किसान जल्दी खराब होने वाले अपने कृषि उत्पाद को हवाई माध्यम से कहीं भी बेच सकते हैं.

देश के किसानों को सशक्त बनाने के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं. किसानों की आय को दोगुना करके अधिक लाभ दिलाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा कृषि उड़ान शुरू की गई है.

इस योजना की मदद से किसानों की फसलों को देश भर की मंडियों तक सही समय पर पहुंचाया जाएगा. ताकि किसान को अधिक लाभ लाभ प्राप्त हो सके सकें. इस योजना को शुरू करने का मकसद किसानों की आय को दोगुना करना है.

“क्या है कृषि उड़ान योजना”
वर्ष 2020-21 के केंद्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किसानों के लिए इस योजना की घोषणा की थी. किसानों की फसल को पर उसके गंतव्य स्थल तक जल्दी पहुंचने से किसान को उसकी फसल का अधिक दाम मिल पाएगा यानी इस योजना की मदद से किसानों को कृषि उत्पादों के परिवहन मे सहायता प्रदान की जाएगी.

बजट पेश करते हुए निर्मला सीतारमण ने इस योजना को नेशनल और इंटरनेशनल रूट पर नागरिक उड्डयन मंत्रालय की सहायता से शुरू करने की बात की थी. इस योजना के माध्यम से जल्दी खराब होने वाले उत्पाद जैसे दुग्ध उत्पाद मछली मांस आदि को सही समय पर हवाई माध्यम से बाजार तक पहुंचाया जाएगा.

“योजना किसानों के लिए अत्यंत लाभकारी”
इस योजना का उद्देश्य किसानों को सस्ती परिवहन सेवा उपलब्ध कराना भी है.इसको कृषि एवं विमानन मंत्रालय के सहयोग से शुरू किया जाएगा.इस योजना में किसानों को लगभग आधी सीटें रियायती दरों पर उपलब्ध करवाई जाएंगी.

इस सेवा के अंतर्गत किसानों को एक निश्चित राशि की फिजिबिलिटी गैप फंडिंग प्रदान की जाएगी इसका अर्थ यह हुआ कि किसानों को हवाई सफर के लिए सब्सिडी उपलब्ध कराई जाएगी. जिसकी राशि केंद्र और राज्य सरकारों के द्वारा वहन की जाएगी.

योजना का लाभ यह है कि किसान देश के किसी भी कोने में अपनी उपज को उचित मूल्य पर बेच पाएंगे. जिससे उनकी आय में वृद्धि होगी. इन उड़ानों को अंतरराष्ट्रीय रूट पर भी संचालित किया जाएगा. अंतरराष्ट्रीय रूट पर परिचालन से किसानों को अपनी फसल को अंतर्राष्ट्रीय बाजार मे भी बेच पाने की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी जिससे किसानों को उनके उत्पाद का लाभकारी मूल्य प्राप्त हो सकेगा.

“ऑनलाइन बाजार का लाभ मिलेगा”
इस सेवा के शुरू हो जाने से किसानों को ऑनलाइन बाजार का भी फायदा मिलेगा. किसान आसानी से ऑनलाइन बाजार का भाव देखकर सही जगह पर उत्पाद बेच सकते हैं. कृषि उड़ान योजना से देश में निर्यात की संभावनाएं भी बढ़ जाएंगी और देश के कृषि उत्पाद को विश्व बाजार में पहचान भी मिलेगी.

“ऑनलाइन आवेदन करने का तरीका”

इस योजना में जुड़ने के लिए सबसे पहले किसानों को अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.इसके लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया भी ऑनलाइन रखी गई है. इस योजना की अभी तक कोई आधिकारिक सूचना सामने नहीं आई है. इसके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को आसानी से समझा जा सकता है. नीचे दी गई प्रक्रिया में जाकर आप अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

  1. सबसे पहले बागवानी या खाद्य प्रसंस्करण विभाग की अधिकारिक वेबसाइट पर जाएं.
  2. वेबसाइट के होम पेज पर कृषि उड़ान योजना(Krishi Udaan Yojna) के लिंक पर क्लिक करें.
  3. योजना के संबंध में दिए गए दिशा निर्देशों को पढ़कर आगे बढ़े और फिर ऑनलाइन पंजीकरण फार्म खुल जाएगा.
    4.फार्म खोलने के बाद उसमें दिए गए दस्तावेजों की पूरी जानकारी देकर आप आसानी से इस प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं.
  4. दस्तावेजों के जमा होने के बाद आप इसे आसानी से Submit कर सकते हैं.

मोदी सरकार द्वारा लाई गई इस योजना का मुख्य उद्देश्य किसानों की आमदनी को दोगुना करना है. किसानों की आमदनी को दोगुना करने की दिशा में मोदी सरकार हर संभव प्रयास कर रही है. कृषि उड़ान योजना इस दिशा में एक महत्वपूर्ण योजना है. योजना का लाभ उठाकर किसान अपने उत्पाद का उचित मूल्य प्राप्त कर सकेगा.

हिंदुस्थान समाचार/कर्मवीर सिंह तोमर