फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग दे सकते है इस्तीफा

फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को इस्तीफा देने के लिए कहा जा रहा हैं. इनवेस्टर जुकरबर्ग को कंपनी के चेयरमैन पद से हटाने की कोशिश में लगे हुए है. इनवेस्टर ने यह कदम तब उठाया जब न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट उजागर हुई. एनवाईटी रिपोर्ट में बताया गया है कि फेसबुक ने प्रतिद्वंदी कंपनियों के खिलाफ लिखने के लिए पीआर फर्म को हायर किया हैं.
जांच में पता चला कि फेसबुक ने रिपब्लिकन के मालिकाना हक वाली पॉलिटिक्ल कंसल्टेंसी और पीआर फर्म से एग्रीमेंट किया हैं. जो अपने प्रतिद्वंदियो की खामियां उजागर करने का काम करती हैं. द गार्जियन में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार फेसबुक में पर्याप्त हिस्सेदारी वाली ट्रिलियम एसेट मैनेजमेंट के उपाध्यक्ष जोनस क्रोन ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए जुकरबर्ग से बताया हैं कि जुकरबर्ग को चेयरमैन से पद से हटने के लिए बोला गया हैं.
क्रोन का कहना है कि फेसबुक एक कंपनी है और किसी भी कम्पनी में उसका सीईओ और चेयरमैन अलग अलग होने चाहिए. वहीं पीआर फर्म की खबर को जुकरबर्ग ने खारिज कर दिया था. उन्होंने कहा कि मैंने फोन पर अपनी टीम के साथ बात की और हम इस फर्म के साथ काम नहीं कर रहे हैं. जबकि न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया कि फेसबुक इस फर्म के साथ अभी भी काम कर रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक पीआर फर्म ने एप्पल और गूगल के विरोध में कई लेख लिखे हैं.
इस बात का भी हवाला दिया गया है कि फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने अपने कर्मचारियो से कहा है कि वह एप्पल के बजाय एंड्रॉयड फोन का ही इस्तेमाल करें. इस बारे में स्टॉक स्ट्रिंजर ने कहा था कि इंडिपेंडेंट चेयरमैन नहीं होने से 2016 के अमेरिकी चुनावों में रूसी दखल बढ़ा और फेसबुक ने इस बात को बिल्कुल भी गम्भीरता से नही लिया.