एक्सपर्ट्स ने ISRO के फैसले को बताया सही

चंद्रयान 2 को रोकने की खबर सुबह जैसे ही लोगों तक पहुंची वैसे ही इस बात पर चर्चा शुरू हो गई की ये सही फैलसा था भी या नहीं.

कई लोगों ने इस मामले पर ISRO का पक्ष लिया तो वहीं कई लोग चुटकी लेने से भी नहीं चुके. वहीं देश के कई वैज्ञानिकों ने ISRO के इस कदम को बिलकुल सही ठहराया है.

वैज्ञानिकों ने आखिरी समय पर ISRO का ये फैसले लेने की बात को बिलकुल सही बताया. वैज्ञानिकों का कहना है कि चंद्रयान 2 की लॉन्चिंग को टालना एक बेहद सामान्य सी बात है.

अगर चंद्रयान में किसी भी तरह की कोई खामी होने की आशंका है तो इसे मिशन पर किसी सूरत में नहीं भेजा जा सकता. इस मिशन पर 900 से भी ज्यादा करोड़ रूपये खर्च हुए हैं. ऐसे में इसे जांच-पड़ताल किए बिना ही बाहर भेज देना सबसे बड़ी गलती होती है.

अगर किसी मिशन में कोई समस्या सामने दिख रही है तो उसे न ही नजरअंदाज किया जा सकता है और न ही किसी किस्म की जल्दबाजी की जानी चाहिए. ऐसे में ISRO ने पूरी तरह से सही फैसला लिया है.

बड़े मिशन पर चांस नहीं

डीआरडीओ के सार्वजनिक इंटरफेस के पूर्व निदेशक रवि गुप्ता ने मीडिया को कहा कि ISRO का ये कदम बेहद सही है. चंद्रयान 2 जैसे बड़े और महत्वाकांक्षी मिशन को देखते हुए किसी तरह का चांस लेने का सवाल ही पैदा नहीं होता. किसी मिशन को पूरा करने के दौरान कई स्तर पर टेस्टिंग की जाती है. हर पहलू और हर सेकेंड पर नजर रखी जाती है.

निराश होने की जरूरत नहीं

एक अन्य वैज्ञानिक ने कहा है कि ISRO के इस फैसले से लोगों को निराश होने की जरूरत नहीं है. ये गर्व की बात है कि कमी को लॉन्च से पहले ही पकड़ लिया गया. अगर ऐसी खामी वाले रॉकेट या सैटेलाइट को लॉन्च कर दिया जाए तो इससे बड़ा नुकसान हो सकता है.

1 thought on “एक्सपर्ट्स ने ISRO के फैसले को बताया सही”

Leave a Reply