स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया के लोगो का फोटो

नई दिल्ली. आपको एक बार फिर से खुशखबरी मिल सकती है. आप पर EMI का बोझ कम हो सकता है.एक बार फिर होम या ऑटो लोन पर ब्‍याज दर में कटौती हो सकती है. जी हां अगले महीने यानी जून में आरबीआई एक बार फिर से ब्याज दर में कटौती का तोहफा दे सकता है.

अगले महीने आरबीआई की मौद्रिक नीति-

अगले महीने यानी 6 जून को रिजर्व बैंक मौद्रिक नीति की अगली समीक्षा जारी करेगा. ऐसे में खबरें आ रही है कि आरबीआई एक बार फिर जून में लोगों को EMI में बड़ी राहत दें सकता है.

बैंक की रिपोर्ट में सामने आई ये बात-

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार हाल ही में एसबीआई ने आरबीआई को दी गई अपनी रिसर्च रिपोर्ट में कहा है कि अर्थव्यवस्था में सुस्ती को देखते हुए आरबीआई को रेपो रेट में 0.25 फीसदी से ज्यादा कटौती करनी चाहिए.

बता दें कि अपनी पिछली दो समीक्षा में आरबीआई रेपो रेट को 0.50 फीसदी तक कम कर चुका है.

कंपनियों को हुआ नुकसान-

एसबीआई की शोध रिपोर्ट इकोरैप के मुताबिक साल 2018-19 की चौथी तिमाही में दूरसंचार उपकरण, ढांचागत सेवाओं, कृषि रसायन, पेट्रोरसायन, ढांचागत सुविधाओं के डेवलपर और कास्टिंग क्षेत्र में कुल मिलाकर गिरावट का रुख रहा है.

ये होता है रेपो रेट-

इसी तरह एक अन्य बैंक जैसे ICICI BANK की रिपोर्ट में भी यहीं कहा गया है..बैंकों ने रिपोर्ट में मार्च तिमाही के लिए कंपनियों के नतीजों का विश्लेषण भी किया है. इन रिपोर्टस के अनुसार 384 कंपनियों में से 330 कंपनियों के रेवेन्यू और प्रॉफिट में गिरावट आई है.जिसके बाद मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के लिए दर में कटौती की गुंजाइश बनी हुई है.

अब बात अगर रेपो रेट की जाए तो बैंक जिस ब्याज पर रिजर्व बैंक से कम समय के लिए कर्ज लेते हैं उसे रेपो रेट कहा जाता है.