शिक्षकों की कमी को लेकर शिक्षा अधिकारी का घेराव

महासमुंद, 02 नवंबर

छत्‍तीसगढ़ में राज्‍य सरकार श‍िक्षा को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही है, लेकिन जमीनी हकीकत कोसों दूर है. स्‍कूल व कॉलेज में जब शिक्षक ही नहीं रहेंगे तो विद्यार्थी पढ़ेंगे कैसे और पढ़कर आगे बढ़ेंगे कैसे ? सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी के चलते छात्रों की पढ़ाई सबसे ज्यादा प्रभावित हो रही है.

जिले के हाईस्कूल अमलोर में शिक्षकों की कमी के चलते परेशान छात्रों और पालको ने शनिवार को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय का घेराव कर जमकर नारेबाजी की. छात्र-छात्राओं ने शिक्षकों की मांग को लेकर यहां जमकर हंगामा भी किया.

शिक्षकों के अभाव में छात्रों का भविष्य अधर में लटका हुआ है, लेकिन अधिकारी इस मामले से पूरी तरह बेखबर दिख रहे हैं. छात्रों का कहना है कि हम लोगों को दसवीं की बोर्ड परीक्षा देना है, लेकिन हमारे स्कूल में शिक्षक नहीं हैं. ऐसे में हम लोग बोर्ड परीक्षा कैसे देंगे ? शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला अमलोर को दो वर्ष पहले हाई स्कूल में उन्नयन कर दिया गया. लेकिन आज तक शिक्षक की पदस्थापना नहीं हुई है. जिससें परेशान बच्चे व पालको ने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय का घेराव कर किया है.

अमलोर हाईस्कूल की छात्रा सुरेखा ने बताया कि हमारे यहां स्कूल नहीं है हम लोग झोपड़ स्कूल में पढ़ते हैं. हम टीचर और स्कूल की मांग करने आए हैं. गांव वाले और सरपंच एक बार शिक्षा विभाग को अवगत करा चुके हैं, फिर भी हमारे स्कूल में शिक्षक नहीं भेजे गए हैं.

हम लोगों को मिडिल कि शिक्षक हफ्ते में एक बार आकर पढ़ाते हैं और एक ही या दो पीरियट हो पाता है शिक्षक नहीं होने के कारण हम लोग अच्छे से पढ़ नहीं पा रहे हैं. हमारा 10वीं का बोर्ड है हम कैसे पेपर देंगे. वहीं 10 वी की छात्रा मनीषा ने बताया कि बोर्ड का पेपर है और हमारी पढ़ाई अभी तक शुरू नहीं हो पाई है हम कैसे पेपर देंगे. अगर फेल हो जाएंगे तो मम्मी-पापा हमें आगे की कक्षा नहीं पढ़ाएंगे हमें पेपर की चिंता सता रही है.

वहीं जिला शिक्षा अधिकारी बीएल कुर्रे ने बताया कि मिडिल स्कूल के दो शिक्षकों का स्‍थानांतरण होने के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है. हम आज ही दो शिक्षक की व्यवस्था हाई स्कूल में कर देंगे. बताते चलें क‍ि जिले में आये दिन बच्चे स्कूलों में ताला जड़ते आ रहे है. उसके बावजूद शिक्षक की व्यवस्था नहीं होना कई सवालों को जन्म देती है.

बता दें कि महासमुंद जिले में कुल 1957 शासकीय स्कूल संचालित है, जिनमें प्राथमिक 1281, मिडिल 491, हाईस्कूल 66, हायर सेकेण्डरी स्कूल 119 है. जिनमें 1 लाख 35 हजार बच्चे अपना भविष्य सवारने आते हैं. इन स्कूलों में 1211 पद आज भी खाली है. 35 हाई स्कूल एवं 33 हायर सेकेण्डरी स्कूल ऐसे हैं जहां अपना भवन नहीं है.

हिन्‍दुस्‍थान समाचार/चंद्रनारायण

Leave a Comment