वाराणसी

कोलकाता में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के विशाल रोड शो के दौरान तृणमूल कांग्रेस समर्थकों के हिंसक बवाल को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं से लेकर केन्द्रीय मंत्रियों में भी जबरदस्त आक्रोश है. कार्यकर्ताओं के निशाने पर सीधे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आ गई हैं.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चुनाव प्रचार के लिए काशी में डेरा डाले केन्द्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने इस मामले को लेकर ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा. कुछ मीडियाकर्मियों से बातचीत में उन्होंने पूरे घटनाक्रम पर पीड़ा जताते हुए कहा कि चुनाव आयोग मूकदर्शक बनकर सिर्फ राजनीतिक हिंसा देख रहा है.

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव के सभी चरणों के मतदान को टीएमसी के गुंडों ने प्रभावित किया है. आयोग से भाजपा की तरफ से मांग किया कि ऐसे मामले में चुप न बैंठे. हर बूथ पर केन्द्रीय फोर्स और खुद चुनाव आयोग नजर रखे. चुनाव आयोग मतदाताओं को यह विश्वास दिलाए कि वह बिना डर के वोट दे सकते हैं.

केन्द्रीय मंत्री ने दावा किया कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में जनसैलाब उमड़ पड़ा। यह देख वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बवाल करवा कर पार्टी अध्यक्ष और कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमला करवाया.

इसके बावजूद रोड शो जारी रहा इसमें वहां की जनता शामिल रही. रोड शो ने साफ संदेश दिया कि पश्चिम बंगाल में जितने भी हमले हो जाएं लेकिन इस बार भाजपा की रिकॉर्ड जीत होगी.
उन्होंने कहा कि भाजपा यह वादा करती है कि पश्चिम बंगाल की जनता को मतदान के दिन पूरी सुरक्षा दी जाएगी.

केन्द्रीय मंत्री ने राष्ट्रपति से भी अनुरोध किया कि हमले पर संज्ञान लिया जाए और आखिरी चरण में होने वाले मतदान में पश्चिम बंगाल में मतदाताओं को कोई खतरा न हो. दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष भोजपुरी सिनेमा के सुपर स्टार मनोज तिवारी ने भी चुनाव आयोग से इस मामले को संज्ञान लेने की मांग की.

वाराणसी में मंगलवार की देर शाम आये तिवारी ने कहा कि बंगाल में टीएमसी ने सारी हदें पार कर दी हैं. उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को सजा चुनाव में वहां की जनता जबाब देगी. भाजपा इस हिंसा के सामने हार नहीं मानेगी. पार्टी के सारे कार्यक्रम निरन्तर चलते रहेंगे.

हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर