DRDO ने SMART के सुपरसोनिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण, रक्षामंत्री ने दी बधाई

SMART Torpedo Missile
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

चीन के साथ चल रहे गतिरोध के बीच भारत लगातार मिसाइल परीक्षण कर रहा है. सोमवार को सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज टॉरपीडो (SMART) का सफल परीक्षण किया गया.​ यह ​तकनीक युद्ध के वक़्त विरोधी पनडुब्बियों को मार गिराने में भारत की क्षमता बढ़ाएगी​. ​​स्मार्ट मिसाइल मुख्य रूप से टॉरपीडो सिस्टम का हल्का रूप है, जिसे लड़ाकू जहाजों पर तैनात किया जाएगा.

ओडिशा तट के व्हीलर द्वीप से आज किये गए परीक्षण के दौरान इसकी रेंज और ऊंचाई तक मिसाइल उड़ान, टॉरपीडो को छोड़ने की क्षमता और वेग न्यूनीकरण तंत्र (VRM) पर स्थापित करने की क्षमता सहित सभी मिशन पूरी तरह से सफल रहे. इसीलिए रक्षा मंत्रालय ने इसे सफल परीक्षण करार दिया है.

परीक्षण के समय ट्रैकिंग स्टेशन (रडार, इलेक्ट्रो ऑप्टिकल सिस्टम) और डाउन रेंज जहाजों सहित टेलीमेट्री स्टेशनों ने सभी घटनाओं की निगरानी की. ​​स्मार्ट टॉरपीडो रेंज से परे एंटी-सबमरीन वारफेयर ऑपरेशन के लिए हल्के एंटी-सबमरीन टॉरपीडो सिस्टम की मिसाइल असिस्टेड रिलीज है. यह लॉन्च और प्रदर्शन एंटी-सबमरीन वॉरफेयर क्षमताओं को स्थापित करने में महत्वपूर्ण है.

टारपीडो के सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज़ का प्रक्षेपण और प्रदर्शन पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता स्थापित करने में महत्वपूर्ण है. इसके लिए आवश्यक तकनीकों का विकास रक्षा अनुसंधान और विकास प्रयोगशाला (DRDL), अनुसंधान केंद्र इमरत (RCI) हैदराबाद, हवाई वितरण अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (ADRDE) आगरा और नौसेना विज्ञान और तकनीकी प्रयोगशाला (NSTL) विशाखापत्तनम ने किया है.

इस स​फलता पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विट कर बधाई देते हुए कहा कि DRDO ने स​फलतापूर्वक सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज टॉरपीडो (​SMART​) का परीक्षण किया है​​​.​ ​​​ये तकनीक युद्ध के वक़्त विरोधी पनडुब्बियों को मार गिराने की हमारी क्षमता बढ़ाएगी​. ​​मैं डीआरडीओ और पूरी टीम को इस बड़ी उपलब्धि के लिए बधाई देता हूं​.​​​​​

DRDO अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी ने कहा कि SMRT एंटी-सबमरीन वारफेयर में एक गेम चेंजर प्रौद्योगिकी प्रदर्शन है. पिछले हफ्ते विस्तारित रेंज की ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल और सतह से सतह पर मार करने वाली परमाणु क्षमता वाली बैलिस्टिक ‘शौर्य मिसाइल’ के नए संस्करण का परीक्षण किया जा चुका है.

​हिन्दुस्थान समाचार/सुनीत