मानसून सत्रः केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने संसद में कोरोना को लेकर जानकारी दी

Dr Harsh Vardhan
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

केन्द्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने संसद के मानसून के सत्र के दौरान लोकसभा में कोरोना की स्थिति पर बयान दिया. डॉ. हर्ष वर्धन ने लोकसभा को बताया कि देश में सबसे ज्यादा मौतें बड़े प्रदेशों में हुई हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, यूपी, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, बिहार, तेलंगाना, ओडिशा, असम, केरल, और गुजरात से अधिकतम कोरोना के मामले और मौते दर्ज हुई हैं. इन सभी में एक लाख से अधिक मामले दर्ज किए गए हैं.

उन्होंने कहा कि भारत में पिछले 24 घंटों में 77 हजार 512 रिकवरी दर्ज की गई. कुल रिकवरी की संख्या 37 लाख 80 हजार 107 है और रिकवरी रेट 78 प्रतिशत है. 60 प्रतिशत से ज्यादा सक्रिय मामले 5 राज्यों- महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में केन्द्रित है.

संसद में समय की कमी के बीच डॉ. हर्ष वर्धन ने बताया कि11 सितंबर तक कोरोना के चपेट में विश्व के 215 देश आ चुके हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक 2.79 करोड़ मामले सामने आ चुके हैं और 9.05 लाख लोगों की मौत हो चुकी है. दुनिया में कोरोना से मरने वालों की दर 3.2 प्रतिशत है.

उन्होने कहा कि देश में 11 सितम्बर तक कुल 45,62 414 मामले सामने आ चुके हैं और 76 हजार 271 लोगों की मौत चुकी है. देश में मृत्युदर 1.67 प्रतिशत दर है. देश में कोरोना के कम लक्षण वाले मरीज 92 प्रतिशत हैं, जबकि 5.8 प्रतिशत लोगों को ऑक्सीजन देने की आवश्यकता पड़ी है. वहीं 1.7 प्रतिशत लोगों को आईसीयू में भर्ती कराने की आवश्यकता पड़ी है.

केंद्रीय मंत्री ने कहाकि केन्द्र सरकार द्वारा समय पर उठाए गए कारगर कदमों के कारण देश में 14-29 लाख मामले आने से रुके और 37-78 हजार लोगों की मौंतों को रोका जा सका है. लॉकडाउन के चार महीनों के दौरान देश की स्वास्थ्य व्यवस्था को मजबूत किया जा सका. देश के अस्पतालों में आईसोलेशन बेड 36.3 गुना,आईसीयू बेड 24.6 गुना बढ़ोतरी की जा चुकी है.

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान जापान, ईटली, ईरान, मलेशिया, वुहान व डायमंड क्रूज जहाज से कई भारतीय को वापस सुरक्षित लाया गया. 11 सितम्बर तक वंदे भारत मिशन के तहत 12 लाख 69 हजार 172 यात्रियों को भारत लाया गया है.

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने कहा कि अबतक 40 लाख लोगों को निगरानी में रखा जा चुका है. कोरोना पॉजिटिव लोगों के संपर्क में आए लोगों की पहचान कर उन्हें बाकी लोगों से आईसोलेट किया गया है. देश में कोरोना की जांच के लिए अबतक 1705 लैब स्थापित किए जा चुके हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/विजयलक्ष्मी