जानिए कार्तिक ने तीसरे टी-20 मैच में क्रुणाल पांडया को क्यों नही दी स्ट्राइक

नई दिल्ली. न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे और निर्णायक मैच में टीम को आखिरी ओवर में जीत के लिए 16 रन की दरकार थी. दिनेश कार्तिक इस मैच में भारतीय टीम को मुकाबले के नजदीक तो ले गए लेकिन इंडिया की जीत नहीं दिला पाए.

जिस वजह से कार्तिक को कई लोगों की आलोचना का शिकार होना पड़ा. इस मैच में यूं तो कार्तिक ने जबरदस्त बल्लेबाजी की. लेकिन इस मैच में चर्चा का विषय में रहा है कि कार्तिक ने अंतिम ओवर की तीसरी गेंद पर रन क्यों नही लिया.

जबकि दूसरे छोर पर क्रुणाल पांडया भी बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे थे. कार्तिक ने इस मैच के बारे मे सफाई देते हुए का कि उन्होंने क्रुणाल को इसलिए एक रन लेने से मना किया क्योंकि उन्हें अपने ऊपर पूरा विश्वास था कि वह छक्का मार सकते हैं.

कार्तिक ने इस मैच में 16 गेंदों में नाबाद 33 रन की पारी खेली थी. सीरीज के आखिरी मैच में दिनेश कार्तिक से सभी को बहुत उम्मीदें थी. इसकी सबसे बड़ी वजह यह रही कि कार्तिक पहले भी कई फंसे हुए मैच टीम को जीता चुके है.

किवी टीम ने भारत के सामने टी20 मुकाबले में 213 रनों का टारगेट रखा था जबिक जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने मैच 4 रन से गंवा दिया था. इसमें कोई दोराय नहीं है कि भारतीय बल्लेबाज इस मैच में बढिया प्रदर्शन नहीं कर पाए थे.

लेकिन दिनेश कार्तिक और क्रुणाल पांडया ने आखिर में बढिया बल्लेबाजी की. कार्तिक और क्रुणाल ने 28 गेंद में 63 रन की नाबाद साझेदारी की. कार्तिक से एक रन न लेने पर उनसे पूछा गया कि क्या इस बारें में टीम मैनजमेंट ने उनसे बात की.

जिसका जवाब देते हुए कार्तिक ने कहा कि वे सभी जानते थे कि हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया. उस दिन हम काफी अच्छे नहीं थे. इसलिए वो हमारी योजना को अच्छे से समझते थे. भारत इस मैच में अगर जीत के नजदीक पहुंचा है तो उसमें कार्तिक का योगदान काफी महत्वपूर्ण था.

कार्तिक ने मैच को जिताने के लिए भरपूर कोशिश की. लेकिन किसी को ये नहीं भूलना चाहिए कि टीम साउथी कोई मामूली गेंदबाज नहीं है. टीम साउथी ने आखिरी ओवर में अपने अनुभव का फायदा उठाते हुए शानदार गेंदबाजी की.

कार्तिक ने लगातार बेहतरीन बल्लेबाजी कर भारतीय टीम में अपनी जगह बनाई है. टीम को कई मैच में जीत दिलाने के बाद भी कार्तिक को टीम में ज्यादा मौके नहीं दिए जा रहे है. कार्तिक को मैच की सबसे कठिन परिस्थितियों में बल्लेबाजी करने के लिए भेजा जाता हैं.

कार्तिक का ध्यान अब ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली आगामी टी20 और वनडे सीरीज में पर लगा होगा. जो कि विश्व कप से पहले भारत की अंतिम सीरीज है. कार्तिक ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में एक बार फिर खुद को साबित करने का मौका नहीं चूकना चाहेंगे.

%d bloggers like this: