सरकार का बड़ा फैसला, ऐसे मिनटों में मिलेगा चोरी या गुम हुआ फोन
  • सरकार अगले महीने आपकी इस समस्या का समाधान पेश करने जा रही है.सरकार जल्द ही एक ट्रैकिंग सिस्टम लॉन्च करने वाली है
  • फोन से यूनीक कोड आईएमआई नंबर बदल देने के बावजूद भी आपके फोन का पता लगाया जा सकेगा

नई दिल्ली. अक्सर ऐसा होता है कि आपका फोन खो जाता है या फिर चोरी हो जाता है.फिर आप जाकर उसकी रिपोर्ट भी लिखावाते हैं.लेकिन इसके बावजूद भी आपका फोन नहीं मिल पाता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उसका सिम कार्ड या फइर आईएमईआई नंबर बदल दिया जाता है. जिसकी वजह से उसका पता लगा पाना मुश्किल हो जाता है.

सरकार का बड़ा कदम-

सरकार अगले महीने आपकी इस समस्या का समाधान पेश करने जा रही है.सरकार जल्द ही एक ट्रैकिंग सिस्टम लॉन्च करने वाली है.जिसके जरिए फोन से सिम कार्ड निकाल देने पर भी आसानी से ट्रैक किया जा सकेगा.इतना ही नहीं फोन से यूनीक कोड आईएमआई नंबर बदल देने के बावजूद भी आपके फोन का पता लगाया जा सकेगा.

इस नई तकनीक को Centre for development of Telematics(C-DoT) ने तैयार किया है.सरकार इसे अगस्त में लॉन्च कर सकती है.इस बात की जानकारी खुद विभाग के एक वरिष्ट अधिकारी ने दी है.

C-DoT को मिली जिम्मेंदारी-

टेलीकॉम विभाग ने जुलाई 2017 में C-DoT को मोबाइल ट्रैकिंग प्रोजेक्ट सेंट्रल इक्विपमेंट आईडेंटिटी सजिस्टर सौंपा था.इसका मकसद था मोबाइल फोन की चोरी और नकली फोन के धंधे को रोकने. सरकार ने देश में सीईआईआर सेट-अप करने के लिए 15 करोड़ रुपए आवंटित करने का प्रस्ताव दिया था.

ऐसे काम करेगी नई तकनीका-

गुम या चोरी हुए मोबाइल फोन से सिम कार्ड निकाले जाने या फिर उसका आइएमईआइ नंबर बदल दिए जाने के बावजूद सीईआइआर इस हैंडसेट की सारी सुविधा ब्लॉक कर देगा.चाहे भले ही डिवाइस किसी भी नेटवर्क पर चलाया जा रहा हो. सरकार को उम्मीद है कि इस नई तकनीकी से ग्राहकों के हितों की भी सुरक्षा होगी और यह कानून लागू करने वाली एजेंसियों को कानूनी तरीके से मोबाइल पर होने वाले संवादों को ट्रैक करने की भी सुविधा देगा.

Trending Tags : IMI | Gadgets Desk | Tech news | Tracking Device

Leave a Comment

%d bloggers like this: