यूपीः बीजेपी सांसद ने सभासद को धमकाया तो उसने सीएम योगी से लगाई रक्षा की गुहार

Ramapati Ram Tripathi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

बीजेपी के पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का कारनामा शायद ही कोई भूल सका हो. उन्होंने जिस तरह से अपनी ही पार्टी के विधायक की जूतों से पिटाई की थी. वो वीडियो आज भी वायरल होता है. अब उनके पिता और देवरिया से बीजेपी सांसद रमापति राम त्रिपाठी भी चर्चा में आ गए हैं.

बीजेपी सांसद रमापति राम त्रिपाठी पर उनकी ही पार्टी के एक सभासद ने गंभीर आरोप लगाया है. पार्षद ने बीजेपी सांसद पर धमकाने का आरोप लगाया है. इतना ही नहीं उसने इस मामले में सीएम योगी को एक चिट्ठी लिखकर रक्षा करने की गुहार लगाई है.

बीजेपी सभासद आशुतोष तिवारी के अनुसार देवरिया के एक सभागार में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर एक सभागार का निर्माण होना था. इसका प्रस्ताव भी पारित हो चुका है. लेकिन उपचुनाव के कारण निर्माण कार्य बीच में ही रुक गया था.

उसने कहा कि सांसद रमापति राम त्रिपाठी अब उस सभागार में अटल जी की मुर्ती की जगह समाजवादी पार्टी के दिवंगत नेता मोहन सिंह की मुर्ती लगवाना चाहते हैं. इसका जब उसने विरोध किया तो सांसद ने उन्हें इस मामले से हट जाने की सलाह दी. और ऐसा नहीं करने पर शहर में रहने नहीं देने की धमकी दी.

आशुतोष तिवारी ने अब इस मामले में सीएम योगी को भी चिट्ठी लिखी है. उसने अपनी चिट्ठी में लिखा कि मैं पिछले 15 सालों से भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता हूं. इसके अलावा वो पार्टी का बूथ अध्यक्ष भी है. उसने अपनी चिट्ठी में लिखा कि देवरिया के सांसद द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का अपमान किया जा रहा है.

उसने लिखा कि जो सभागार पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर बनना था उसे अब दिवगंत सांसद मोहन सिंह के नाम से बनाया जा रहा है. जबकि वाजपेयी के नाम से सभागार के निर्माण का प्रस्ताव पास हो चुका है. और इस पूरे कार्य को सांसद रमापति राम त्रिपाठी का समर्थन है.

उसने लिखा कि जब इस विषय को मैंने उठाया तो कहा गया कि उपचुनाव के बाद इस विषय पर चर्चा की जाएगी. विधानसभा उपचुनाव संपन्न होने के बाद जब मैंने सांसद रमापति राम त्रिपाठी से चर्चा की तो उन्होंने मेरा अपमान किया. सांसद ने चुप रहने की भी बात कही. उसने मुख्यमंत्री को लिखा कि आप मेरी रक्षा करें.