दिल्ली हिंसा: गुलफिशा फातिमा को रिहा करने की याचिका खारिज

Gulfisha Fatima
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली हिंसा के मामले में जेल में बंद गुलफिशा फातिमा को रिहा करने की उसके भाई की याचिका खारिज को कर दिया है. जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रजनीश भटनागर की बेंच ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये याचिका खारिज कर दिया.

कोर्ट ने कहा कि आरोपी सेशंस जज के आदेश पर न्यायिक हिरासत में है इसलिए बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका का कोई मतलब नहीं है. कोर्ट ने कहा कि यूएपीए ये नहीं कहता है कि इस एक्ट के तहत केवल स्पेशल कोर्ट ही सुनवाई कर सकती है.

कोर्ट ने कहा कि इन मामलों पर एनआईए के अलावा भी दूसरी पुलिस को यूएपीए के तहत जांच करने का अधिकार है. कोर्ट ने कहा कि एनआईए एक्ट की धारा 6(7) में साफ किया गया है कि जब तक एनआईए किसी मामले की जांच शुरु नहीं करती है. तब तक उस थाने के इंचार्ज को उसकी जांच जारी रखने का अधिकार है जिस थाने में ये मामला दर्ज किया गया है.

कोर्ट ने कहा कि ये जरुरी नहीं है कि यूएपीए के तहत दर्ज सभी मामलों की जांच एनआईए ही करेगी. गुलफिशा फातिमा के भाई अकील हुसैन ने वकील महमूद प्राचा के जरिये दायर याचिका में कहा था कि उसे 9 अप्रैल को जाफराबाद से गिरफ्तार किया गया था. उसके बाद उसके परिजनों से दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के लोग कई बार मिल चुके हैं.

महमूद प्राचा ने कहा था कि फातिमा को एक एफआईआर में सेशंस कोर्ट से जमानत मिल चुकी है. दूसरी एफआईआर में फातिमा के खिलाफ यूएपीए तहत एफआईआर दर्ज किया गया है. लॉकडाउन की वजह से यूएपीए के मामलों की सुनवाई करनेवाली स्पेशल एनआईए कोर्ट नहीं बैठ रही है. जिसकी वजह से जमानत याचिका दायर नहीं की जा रही है और आरोपी जेल में बंद है

दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने पिछले 13 मई को गुलफिशा फातिमा को एक मामले में जमानत दे दिया था. लेकिन उसके बावजूद वो इसलिए रिहा नहीं हो सकी क्योंकि उसके खिलाफ यूएपीए के तहत दूसरा मामला भी दर्ज है.

गुलशिता फातिमा एमबीए की छात्रा है. फातिमा पर आरोप है कि उसने पिछले 22 फरवरी को जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के पास सड़क जाम करने के लिए लोगों को उकसाने वाला भाषण दिया. पुलिस ने फातिमा को पिछले 9 अप्रैल को गिरफ्तार किया था.

बता दें कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों में 53 लोग मारे गए थे और करीब दो सौ लोग घायल हो गए थे.

हिन्दुस्थान समाचार/संजय