दिल्ली अग्निकांड का असली हीरो, अकेले बचाई 11 लोगों की जान

दिल्ली के रानी झांसी रोड पर अनाज मंडी इलाके में स्थित एक इमारत आज सुबह अचानाक से आग लग गई. देखते ही देखते आग ने विकराल रूप ले लिया. घटनास्थल पर चीख पुकार मची थी. लोग इधर-उधर भाग रहे थे. 43 लोग अपनी जिंदगी से हाथ धो बैठे.

ऐसी परिस्थिति में दिल्ली फायर ब्रिगेड का एक जवान सामने आया, जो हीरो बनकर सामने आया. और अकेले 11 लोगों की जान बचाई. फायरमैन राजेश शुक्ला हड्डी की चोट के बाद भी अपनी ड्यूटी को पूरी ईमानदारी के साथ निभा रहे थे. उन्होंने अपनी ड्यूटी निभाते हुए 11 लोगों की जान बचाई.

फायरमैन राजेश की तस्वीर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने अपने ट्विटर हैंडल से इस फायरमैन की तस्वीर पोस्ट की है और उन्होंने लिखा है कि फायरमैन राजेश शुक्ला एक रियल हीरो हैं. वह फायर स्पॉट में प्रवेश करने वाले पहले फायरमैन थे जिन्होंने 11 लोगों की जान बचाई. सत्येंद्र जैन ने ट्वीट के अंत में लिखा है इस बहादुर हीरो को सलाम.

मालूम हो कि अग्निशमन विभाग के कर्मियों ने 50 से ज्यादा लोगों को बचाया है, लेकिन भीषण आग और बिल्डिंग में भागने की जगह नहीं होने के कारण 43 लोगों की झुलसने और दम घुटने के कारण मौत हो गई है. मरने वालों में से अधिकतर लोग फैक्ट्री में मजदूरी करते थे और यूपी-बिहार के रहने वाले थे.

दिल्ली के अनाज मंडी इलाके में रविवार सुबह भीषण आग लगी. वहां की गलियां काफी संकरी हैं. जिस फैक्ट्री में आग लगी है वह रिहायशी इलाके में अवैध तरीके से चल रही थी. बताया जा रहा है कि पूरा इलाका अवैध और छोटी फैक्ट्रियों से भरा हुआ है. जिसे न तो एनओसी मिली थी और न ही आग बुझाने के इंतजाम किए गए थे. इस संकरे इलाके में चारों ओर बिजली के तार हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: