दिल्ली में मुंबई से भी अधिक हुए कोरोना के मामले

coronavirus
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

दिल्ली में कोरोना शुरू से फैला हुआ है. दिल्ली में अब मुंबई से भी अधिक कोरोना के मामले सामने आ चुके हैं. दिल्ली में कोरोना के मरीजों का आंकड़ा 70 हजार के पार पहुंच चुका है. बुधवार को कोरोना के रिकॉर्ड 3788 नए मामले सामने आए हैं. इसी के साथ कुल आंकड़ा 70,390 पर पहुंच गया.

बीते 24 घंटों में यहां 64 मरीजों की जान गई है, इसी के साथ कुल मरने वालों की संख्या 2365 हो चुकी है. राजधानी में 26,588 एक्टिव केस सामने आए हैं. सरकार और डॉक्टरों के कहने पर 14,844 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है. 41,437 मरीज हैं जो कोरोना को हरा चुके हैं.

सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि पूरे भारत में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है. दिल्ली के अलावा मुंबई में भी शुरू से कोरोना के हजारों मामले सामने आए हैं. अब मुंबई को पछाड़ कर दिल्ली आगे पहुंच चुका है. मुंबई में 69,528 मामले हैं. हालांकि कोरोना से मरने वालों की संख्या दिल्ली से ज्यादा मुंबई में है. यहां 3964 की मौत कोरोना के कारण हो चुकी है.

दिल्ली में राजनीति चरम पर

कोरोना काल में भी दिल्ली में राजनीति चरम पर है. आए दिन किसी न किसी मुद्दे पर दिल्ली और केंद्र आमने-सामने हो जाते हैं. अब कोरोना इलाज के प्रोटोकॉल को लेकर दोनों में सहमति बनती नहीं नजर आ रही है.

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को पत्रकार वार्ता में कहा कि दिल्ली में कोरोना के इलाज के दो मॉडल हैं, एक अमित शाह वाला और दूसरा केजरीवाल सरकार का. अमित शाह वाले मॉडल में कोरोना मरीज को जांच के लिए क्वारंटीन सेंटर जाना होगा, जबकि हमारे मॉडल में दिल्ली सरकार की मेडिकल टीम घर जाकर कोरोना मरीज की जांच करेगी. हमें ऐसा मॉडल चाहिए, जिसमें लोगों को कम परेशानी हो.

सिसोदिया ने कहा कि कोविड के खिलाफ संघर्ष में अमित शाह मॉडल बनाम केजरीवाल मॉडल की बात नहीं है. हमें लोगों को कम परेशानी वाली व्यवस्था लागू करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री की जिम्मेदारी है कि वह एलजी साहब से कहकर इस व्यवस्था को बंद करवाएं और पुरानी व्यवस्था लागू करें.

हमको वह व्यवस्था लागू करनी चाहिए, जिसमें लोगों को कम-से-कम समस्या हो. पिछले चार-पांच दिनों में लोग दुखी हो रहे हैं क्योंकि सबको क्वारंटीन सेंटर में जांच के लिए भेजा जा रहा.