रक्षा मंत्री ने किया शहीदों को नमन, बोले- करगिल विजय दिवस है गौरवशाली परंपरा का उत्सव

Kargil Vijay Diwas
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

26 जुलाई 1999 के दिन भारतीय सेना ने कारगिल युद्ध के दौरान चलाए गए ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक अंजाम देकर भारत के वीरों ने दुश्मन से अपनी जमीन को मुक्त कराया था. इसी दिन की याद में ‘26 जुलाई’ अब हर वर्ष कारगिल दिवस के रूप में मनाया जाता है. यह दिन हमारे उन बहादूर जवानों की याद दिलाता है, जिन्होंने हंसते हुए देश के लिए अपने प्राणों तक को न्योछावर कर दिया.

इसी की याद में ‘26 जुलाई’ अब हर वर्ष कारगिल दिवस के रूप में मनाया जाता है. इसीलिए इस साल देश कारगिल दिवस की 21वीं वर्षगांठ मना रहा है. इस मौके पर देश के तमाम राजनेताओं ने भारतीय सेना के वीर जवानों को नमन किया. इस अवसर पर देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली के नेशनल वॉर मेमोरियल में श्रद्धांजलि दी. उनके साथ तीनों सेनाओं के प्रमुख सहित सीडीएस बिपिन रावत भी मौजूद रहे.

राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके लिखा कि कारगिल विजय की 21 वीं वर्षगांठ पर मैं भारतीय सशस्त्र बलों के उन बहादुर सैनिकों को सलाम करना चाहता हूं जिन्होंने हाल के इतिहास में दुनिया की सबसे चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में दुश्मन का मुकाबला किया.

अमित शाह ने भी वीरों को नमन किया

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी इस अवसर पर देश के वीर सपूतों को नमन किया. उन्होंने ट्वीटर पर लिखा कि करगिल विजय दिवस भारत के स्वाभिमान, अद्भुत पराक्रम और दृढ़ नेतृत्व का प्रतीक है. मैं उन शूरवीरों को नमन करता हूँ, जिन्होंने अपने अदम्य साहस से करगिल की दुर्गम पहाड़ियों से दुश्मन को खदेड़ कर वहाँ पुनः तिरंगा लहराया. मातृभूमि की रक्षा के लिए समर्पित भारत के वीरों पर देश को गर्व है.