आखिर क्या होनी चाहिए रेप की सजा, नारायण साईं के पापों का फैसला आज

दो बहनो ने लगाए था आसाराम और उनके बेटे नारायण साईं पर दुष्कर्म का आरोप.

अपने आपको संत महात्मा बताने वाले आसाराम बापू और उनके बेटे नारायण साईं पर दो बहनो ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था. जिसे कोर्ट ने सही करार दे दिया है साथ ही इस मामले पर सूरत की सेशन कोर्ट आज यानी 30 अप्रैल को फैसला ले सकता है.


दुष्कर्म का केस करने वाली दोनो बहने सूरत की रहने वाली है. रेप का ये केस 11 साल पुराना है.
दोनो बहनो ने रेप के खिलाफ सभी सबूत कोर्ट में पेश किे जिससे आधार पर कोर्ट ने नारायम साईं को दोषी माना. 11 साल से संत और महात्मा बने आरोपी नारायण साईं लुका छिपी का खेल पुलिस के साथ लगातार खेल रहे थे.

मामले की सुनवाई करते हुए लगभग 50 गवाहों ने कोर्ट में बयान दिया जिनमें कईं ऐसे भी थे जिन्होंने कहा कि उन्होंने नारायण साईं को लड़कियों के साथ संबंध बनाते उन्होने देखा है.

एफआईआर दर्ज होने के बाद साई नारायण गायब हो गया.. दिसंबर 2013 में नारायण साईं को हरियाणा-दिल्ली की सीमा के पास से गिरफ्तार किया गया. गिरफ्तारी के वक्त नारायण साईं ने सिख व्यक्ति का भेष धर रखा था.

  • सूरत की सेशन कोर्ट ले सकता है फैसला आज
  • कोर्ट ने दुष्कर्म को माना सही
  • फैसले के चलते सूरत में बढ़ाई सुरक्षा
%d bloggers like this: