DBS ने अप्रैल-जून तिमाही में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में गिरावट का अनुमान जताया

DBS
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

सिंगापुर के बैंकिंग समूह डीबीएस ने भारत की अर्थव्यवस्था में अप्रैल-जून तिमाही में 10 फीसदी अथवा इससे ज्‍यादा की गिरावट का अनुमान जताया है. डीबीएस (DBS) ने एक रिपोर्ट में कहा है कि कोविड-19 की महामारी की वजह से आर्थिक गतिविधियों पर लगे अंकुश के चलते अर्थव्यवस्था में इतनी बड़ी गिरावट आने का अनुमान है.

बता दें कि जनवरी-मार्च तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 3.1 फीसदी रही थी. डीबीएस ने जारी अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि हमारा अनुमान आंतरिक जीडीपी की गणना मॉडल के जरिये तत्काल आधार पर मौजूदा और आगे की तिमाहियों के सकल घरेलू उत्‍पाद (GDP) के आंकड़ों का अनुमान लगाया जाता है.

इस आकलन से इस बात की पुष्टि होती है कि साल 2020 की अप्रैल-जून तिमाही में जीडीपी में द्विअंकीय गिरावट आएगी. इसके बाद तीसरी तिमाही जुलाई-सितंबर में अर्थव्यवस्था में मामूली सुधार दर्ज होगा. डीबीएस समूह रिसर्च की अर्थशास्त्री राधिका राव ने कहा कि अर्थव्यवस्था में अचानक इतनी बड़ी गिरावट की वजह कोविड-19 की महामारी है.

इसकी वजह से उत्पादन में जो गिरावट आई है उसकी बाकी साल के दौरान भरपाई करना मुश्किल है. रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2020 की दूसरी छमाही में अर्थव्यवस्था को खोलने और संक्रमण पर नियंत्रण न होने की वजह से अनिश्चितता बनी रहेगी. राव ने कहा कि ये मानते हुए कि साल 2020 की तीसरी तिमाही में संक्रमण के मामले उच्चस्तर पर रहेंगे. उन्‍होंने कहा कि हमारा अनुमान है कि 2020 में विकास दर नकारात्मक रहेगी.

वहीं सालाना आधार पर वृद्धि दर में 4.8 फीसदी की गिरावट आएगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि महमारी पर नियंत्रण में विलंब और अर्थव्यवस्था को पूरी तरह खोलने में और वक्‍त लगने की स्थिति में अर्थव्यवस्था में हमारे अनुमान से 1-1.5 फीसद की और गिरावट रहेगी. रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में अनलॉक 2.0 लागू है.

हिन्‍दुस्‍थान समाचार/प्रजेश शंकर