दंबग के डायरेक्टर ने सलमान खान और उनके भाइयों पर लगाया बुलिंग करने का आरोप

abhinav
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद बॉलीवुड इंडस्ट्री से कई तरह की बात सामने आ रही है. सुशांत के आकस्मिक निधन से बॉलीवुड में कलाकारों के मानसिक स्वास्थ्य और दबाव के बारे में बहस छिड़ गई है.

अभिनेत्री कंगना रनौत सबसे पहले सामने आकर इसके खिलाफ मुखर तौर पर अपनी आवाज बुलंद की, जिसके बाद बड़ी संख्या में लोग समर्थन कर रहे हैं. दबंग, युवा, बेशर्म जैसी फिल्मों के निर्देशक अभिनव कश्यप ने अपने फेसबुक पेज पर एक लंबा-चौड़ा पोस्ट लिखा है. इसमें उन्होंने दो बातों का दावा किया है.

पहला फिल्म इंडस्ट्री में कैसे रॉ टैलेंट को बर्बाद किया जाता है तो वहीं दूसरा उनके साथ सलमान खान और उनके भाइयों ने क्या किया. अपने पोस्ट में अभिनव ने सुशांत के सुसाइड मामले पर विस्तृत जांच की मांग की है और तमाम गंभीर बातें कही हैं. निर्देशक अभिनव कश्यप फिल्ममेकर अनुराग कश्यप के भाई हैं.

निर्देशक अभिनव कश्यप ने अपनी पोस्ट में लिखा-“सरकार से मेरी अपील है कि एक विस्तृत जांच शुरू करें. सुशांत सिंह राजपूत की आत्मा को शांति मिले… ओम शांति.. लेकिन तुम्हारी लड़ाई जारी है. सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या एक काफी बड़ी समस्या को सामने लाती है जिसका सामना हम में से कई लोग कर रहे हैं. वास्तव में क्या एक व्यक्ति को आत्महत्या के लिए मजबूर किया जा सकता है?? उनकी मौत चर्चा में आया एक मामला है जैसे बॉलीवुड में #मीटू आंदोलन ने अंदर की परेशानियों को उजागर किया था.

यशराज प्रोडक्शन की टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी की सुशांत सिंह राजपूत को आत्महत्या करने पर मजबूर करने में भूमिका हो सकती है, लेकिन इसकी जांच करना अधिकारियों का काम है. तकरीबन 10 साल तक व्यक्तिगत रूप से इस सब को बर्दाश्त करने के बाद मैं पूरे विश्वास के साथ ये बात कह सकता हूं कि  बॉलीवुड की तमाम टैलेंट मैनेजर और टैलेंट मैनेजमेंट एजेंसी को मौत का एक ट्रैप कह सकते हैं. वे सिर्फ व्हाइट कॉलर दलाल हैं, इसमें सभी शामिल हैं.

सभी के पास अपना कोड ऑफ कंडक्ट है जिसका वो पालन करते हैं, वो इस चीज को फॉलो करते हैं कि ‘हमाम में सब नंगे हैं, जो नंगे नहीं है उनको नंगा करो. क्योंकि अगर एक भी पकड़ा गया तो सब पकड़े जाएंगे. पहले टैलेंट स्काउट (कास्टिंग डायरेक्टर) कट/कमीशन पर काम करते हैं, जिसमें वे मुंबई के बाहर के टैलेंट को अपने थोड़े बहुत कनेक्शन्स और प्रॉपर्टीज के दम पर बुलाते हैं.

इसके बाद उस टैलेंट को बॉलीवुड पार्टियों और रैंडम रेस्टोरेंट्स में लंच पर फ्री इनविटेशन का लालच दिया जाता है जिसमें उन्हें बॉलीवुड सेलेब्रिटीज से मिलवाने की बात कही जाती है. अंधा कर देने वाला सेलेब्रिटीज का ग्लैमर और पैसे की आसान राह का लालच आपको भनक भी नहीं लगने देता कि आप किसमें फंसने जा रहे हैं.

आपको बता दूं कि उन्हें इन पार्टियों में बहुत बुरी तरह ट्रीट किया जाता है, ताकि वे हतोत्साहित हो जाएं और अपना आत्मविश्वास खो दें. एक बार उनका कॉन्फिडेंस टूट जाने पर स्काउट उन्हें कई साल के एक्सक्लूसिव कॉन्ट्रैक्ट ऑफर करता है और उन पर इन्हें साइन करने का दबाव बनाता है.

साथ ही उनसे बड़े कलाकारों के दबाव से बचाने का वादा करता है. उन्हें इसके लिए बहुत कम कीमत ऑफर की जाती है। इन कॉन्ट्रैक्ट्स को साइन करने का मतलब होता है भारी भरकम पैनाल्टीज देना. मेरा अनुभव अलग नहीं है मुझे भी इस तरह के शोषण का सामना करना पड़ा है. दबंग के दौरान अरबाज खान की ओर से और उसके बाद लगातार, तो यहां दबंग के 10 साल बाद की मेरी कहानी है.

दस साल पहले दबंग बनाने की वजह से मुझे बाहर कर दिया गया, क्योंकि सोहेल खान और परिवार की मिलीभगत से अरबाज खान मुझे धमका कर मेरे करियर से छेड़छाड़ करने की कोशिश कर रहे थे. अरबाज खान ने श्रीअष्टविनायक फिल्म्स के साथ मेरे दूसरे प्रोजेक्ट में भी दखलअंदाजी की.

अरबाज ने मेरे दूसरे प्रोजेक्ट जो श्री अष्टविनायक के साथ था उसे छीना, जिसे मैंने पहले ही साइन कर लिया था. मैंने खुद कंपनी के हेड राज मेहता को व्यक्तिगत रूप से फोन करके यह प्रोजेक्ट हासिल किया था. लेकिन अरबाज ने उन्हें धमकी दी और मुझे साइनिंग अमाउंट को वापस करना पड़ा.

इसके बाद मैं वायाकॉम पिक्चर्स के पास गया, यहां भी इन लोगों ने वही किया, लेकिन इस बार यह काम सोहेल खान ने किया और वायकॉम के सीईओ विक्रम मल्होत्रा को धमकी दी. मेरे प्रोजेक्ट को यहां भी इन लोगों ने रुकवा दिया और मुझे साइनिंग फीस जो 7 करोड़ रुपए थी, उसे वापस करना पड़ा. साथ ही 90 लाख रुपए का ब्याज भी देना पड़ा लेकिन तब मुझे रिलायंस इंटरटेनमेंट ने मदद दी और उनके साथ मिलकर मैंने बेशर्म फिल्म पर काम शुरू किया.

मिस्टर सलमान खान और परिवार ने फिल्म की रिलीज को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की और रिलीज से पहले मेरे और मेरी फिल्म बेशर्म के खिलाफ अपने पीआरओ को लगातार नकारात्मक अभियान चलाने के लिए कहा. इससे डिस्ट्रीब्यूटर्स को मेरी फिल्म लेने से डर लगता है.

रिलायंस एंटरटेनमेंट और मैं खुद फिल्म को रिलीज करने में सक्षम और साहसी थे, लेकिन लड़ाई अभी शुरू हुई थी. मेरे दुश्मन कई थे ओर वो फिल्म के खिलाफ लगातार नकारात्मक ट्रोलिंग अभियान चला रहे थे, जब तक कि मेरी फिल्म बॉक्स ऑफिस पर असफल नहीं हो गई, लेकिन उनके डर के बावजूद बेशर्म ने सिनेमाघरों से बाहर जाने से पहले ही 58 करोड़ रुपए की कमाई कर ली थी.

यह लड़ाई यहीं नहीं रुकी मेरी फिल्म के सैटेलाइट लॉन्च को भी इन लोगों ने रोकने की कोशिश की और अंत में फिल्म को बहुत ही कम कीमत पर सैटेलाइट लॉन्च के लिए दिया गया. अगले कुछ सालों में मेरे सभी प्रोजेक्ट्स और प्रयासों को नाकाम किया गया है. मुझे जान से मारने की धमकी दी गई है और परिवार की महिला सदस्यों के साथ बलात्कार की धमकियां भी मिली हैं.

लगातार ऐसी चीजों ने हमारे मानसिक स्वास्थ्य और मेरे परिवार को बर्बाद कर दिया और तलाक के साथ 2017 में मेरा परिवार टूट गया. मुझे कई नंबरों से एसएमएस मिलते थे. सबूतों के साथ मैं 2017 में पुलिस में एक प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए गया था जिसे उन्होंने दर्ज करने से इनकार कर दिया था. जब धमकियों का सिलसिला जारी रहा तो मैंने पुलिस को नंबरों को ट्रेस करने के लिए कहा, लेकिन भेजने वाले का पता नहीं लगाया जा सका.

मेरी शिकायत आज भी है और मेरे पास अभी भी सभी सबूत हैं. मेरे दुश्मन तेज, चालाक हैं. हमेशा पीछे से मुझ पर हमला करते हैं और छिपे रहते हैं लेकिन 10 साल बाद मैं जानता हूं कि मेरे दुश्मन कौन हैं. ये सलीम खान, सलमान खान, अरबाज खान और सोहेल खान हैं। कई अन्य छोटे लोग हैं, लेकिन सलमान खान परिवार इसमें प्रमुख हैं.

ये लोग गलत तरीके, पैसे, रुतबे, राजनीतिक पहुंच, अंडरवर्ल्ड का इस्तेमाल करते हैं लोगों को डराने, धमकाने के लिए. सच्चाई मेरी तरफ है और मैं सुशांत सिंह राजपूत की तरह हार नहीं मानने वाला हूं। मैं तब तक लड़ता रहूंगा जब तक कि मैं उनमें से किसी एक को सजा नहीं दिला देता.

यह कोई खतरा नहीं है, यह एक खुली चुनौती है. सुशांत सिंह राजपूत आगे बढ़ गए और मुझे लगता है कि वो जहां भी हैं, खुश हैं, लेकिन मैं इस बात की तसल्ली करूंगा कि और कोई निर्दोष  टैलेंट काम और आत्मसम्मान की कमी के चलते बॉलीवुड में अपनी जान नहीं ले ले मैं उम्मीद करता हूं कि परेशान कलाकार और क्रिएटिव आर्टिस्ट मेरी पोस्ट को अलग-अलग सोशल मीडिया पर शेयर करेंगे. “

-नमस्कार, अभिनव सिंह कश्यप.

बता दें कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने अपने बांद्रा स्थित आवास में रविवार को आत्महत्या कर ली थी। इस खबर ने हर किसी को हैरान कर दिया था. सुशांत 6 महीने से डिप्रेशन में थे और दवा टाइम से नहीं ले रहे थे पिछले काफी समय से लोगों से मिलना-जुलना कम कर दिया था.

मुंबई के विले पार्ले में स्थित पवन हंस शमशान घाट पर सुशांत सिंह राजपूत का अंतिम संस्कार हुआ. सुशांत को अंतिम विदाई देने के लिए कई बॉलिवुड सिलेब्रिटीज भी वहां पहुंचे थे.

हिन्दुस्थान समाचार/मोनिका शेखर