आज महाराष्ट्र-गुजरात तट से टकराएगा तूफान निसर्ग, जानें किन राज्यों में जारी हुआ अलर्ट

नई दिल्ली. देश में कोरोना संकट के बीच में चक्रवात निसर्ग भारी मुसीबत का कारण बन सकता है. भारत से टकराने वाला ये इस साल का दूसरा चक्रवाती तूफान है. हाल ही में चक्रवात अम्फान ने बंगाल और ओडिशा में काफी तबाही मचाई थी.

निसर्ग का असर दिखना शुरू- अरब सागर से उठा डीप डिप्रेशन मंगलवार को चक्रवाती तूफान में बदल गया. इस तूफान का नाम निसर्ग है जो महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों की ओर बढ़ रहा है. चक्रवाती तूफान निसर्ग ने अपना रुख मुंबई की तरफ कर लिया है. इसका असर महाराष्ट्र के कई जिलों में दिखना शुरू हो गया है.

मुंबई की तरफ बढ़ रहा है तेजी से- मौसम विभाग की मानें तो जिस वक्त निसर्ग मुंबई से टकराएगा उस वक्त हवा की रफ्तार 120 किमी. प्रति घंटा तक होगी. चक्रवाती तूफान निसर्ग ने अपना रुख मुंबई की तरफ कर लिया है और अब ये तेजी से बढ़ा चला आ रहा है. ऐसे में अब इसका असर महाराष्ट्र के कई जिलों में दिखना शुरू हो गया है.यहां मुंबई, पालघर, अलीबाग और ठाणे में देर रात से बारिश शुरू हो गई है.

यहां मुंबई, पालघर, अलीबाग और ठाणे में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है. बड़े पैमाने पर तबाही की आशंका को देखते हुए सरकार और प्रशासन की तरफ से तैयारियों को बढ़ा दिया गया है.

सतर्क और घरों में रहने की अपील- महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने तूफान के खतरे को देखते रहने एवं मुंबई वासियों से अगले दो दिनों तक सतर्क रहने एवं घरों में रहने को कहा है.

चक्रवात ‘निसर्ग’ के आज मुंबई से करीब 94 किमी की दूरी पर स्थित महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के बीच हरिहरेश्वर व दमन के नजदीक अलीबाग के पास टकराने की संभावना है. ये तूफान बड़े पैमाने पर तबाही मचा सकता है.

कर्नाटक और मराठावाड़ा में बारिश का अनुमान- मौसम विभाग के अनुसार अगले कुछ घंटों मध्य प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश के आसार जताए जा रहे हैं. विभाग के अनुसार तटीय कर्नाटक और मराठावाड़ा में भी बारिश के अनुमान हैं.

गुजरात-दमन-दीव पर भी होगा तूफान का असर– मुंबई के अलावा गुजरात, दमन-दीव जैसे इलाकों में भी इस तूफान का असर होगा. चार जून को ये तूफान मध्य प्रदेश की ओर बढ़ेगा, लेकिन तब रफ्तार कम होगी.

पीएम मोदी ने की मुख्यमंत्रियों से बात- दोनों राज्यों (गुजरात-महाराष्ट्र) में NDRF की टीमें प्रभावित होने वाले इलाकों में तैनात की गई हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह ने दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की है.

महाराष्ट्र और गुजरात ने अपने आपदा प्रतिक्रिया तंत्र को सक्रिय कर दिया है. दोनों राज्यों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात हैं और प्रभावित होने वाले संभावित इलाकों से लोगों को बाहर निकाला जा रहा है.

लोगों को पहुंचाया गया सुरक्षित जगह- गुजरात के तटीय जिलों में 80 हजार लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया है. नौसेना ने मुंबई में 5 फ्लड रेस्क्यू टीम और 3 गोताखोर टीम तैनात कर दी हैं. पालघर जिले में सब बंद है. मुंबई में मछुआरों ने नौकाओं को हटा दिया गया है. महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्रों में धारा 144 लागू है.

मुंबई के समुद्री तट पर 1891 में आया था समुद्री तूफान- 129 साल बाद मुंबई के समुद्री तट पर चक्रवात आ रहा है.मौसम विभाग के साइक्लोन ई-एटलस के अनुसार 1891 में समुद्री तूफान आया था.उसके बाद पहली बार अरब सागर में महाराष्ट्र के तटीय इलाके के आसपास समुद्री तूफान की स्थिति बनी है. कोरोना महामारी से लड़ रहा देश 15 दिन में दूसरी बार भयावह तूफान का सामना कर रहा है.

Leave a Reply

%d bloggers like this: