‘वुहान में अगस्त में ही फैल गया था कोरोना वायरस’

Coronavirus
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

अस्पतालों के यात्रा पैटर्न, खोज इंजन डेटा और उपग्रह छवियों के आधार पर हॉर्वर्ड मेडिकल स्कूल के शोध के अनुसार कोरोना वायरस पिछले साल अगस्त में ही चीन में फैल गया होगा. लेकिन चीन ने इस रिपोर्ट को “हास्यास्पद” बताकर खारिज कर दिया.

अनुसंधान में वुहान में अस्पतालों की पार्किंग के उपग्रह चित्रों और “खाँसी” और “दस्त” जैसी चीजों के लिए खोज इंजन पर लक्षण-संबंधित प्रश्नों के लिए डेटा का उपयोग किया गया. वुहान में रोग की पहचान पहली बार 2019 के अंत में हुई थी. शोध के अनुसार वुहान में अस्पताल के यातायात और लक्षण खोज के बढ़े हुए आंकड़े दिसंबर 2019 में कोविड-19 महामारी की घोषित शुरुआत से पहले के थे.

शोध में कहा गया कि हम पुष्टि नहीं कर सकते हैं कि बढ़ी हुई मात्रा सीधे नए वायरस से संबंधित थी, तो भी हमारे सबूत हाल के अन्य कार्यों का समर्थन करते हैं, जो दिखाते हैं कि हुआनन सीफूड मार्केट (वुहान में) में पहचान से पहले ही रोग का जन्म हो चुका था.

शोध के अनुसार, ये निष्कर्ष भी परिकल्पना की पुष्टि करते हैं कि वायरस दक्षिणी चीन में स्वाभाविक रूप से उभरा और संभवतः वुहान क्लस्टर में पहले से ही फैल रहा था. अगस्त 2019 में अस्पताल की कार पार्किंग में तेज वृद्धि दिखाई दी. अगस्त में दस्त के लिए खोजों में एक अद्वितीय वृद्धि की पहचान की गई है जो न तो पिछले फ्लू के मौसम में देखा गया था और न ही खांसी के बारे में खोज आंकड़ों में दिखाई दिया था.

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मंगलवार को एक दैनिक प्रेस ब्रीफिंग में शोध के बारे में पूछने पर इन निष्कर्षों को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि यह हास्यस्पद है. ट्रैफिक वॉल्यूम जैसी सतही चीजों के आधार पर इस तरह का निष्कर्ष निकालना अविश्वसनीय रूप से हास्यस्पद है.”

हिन्दुस्थान समाचार/राकेश सिंह