कोरोना के साए में मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस, लागू होंगे ये नियम

PM Modi Independence Day
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

15 अगस्त को देश आजादी की 74वीं सालगिरह मनाने जा रहा है. इस बार देश अपनी आजादी की सालगिरह कोरोना के साए में मना रहा है. कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में जारी है. इस महामारी का प्रकोप भारत में भी तेजी के साथ बढ़ता ही जा रहा है. इस वायरस ने लोगों के जीवन पर ही ब्रेक लगा दी है. ना खुलकर जश्न मना सकते हैं, ना ही किसी के गम में ज्यादा लोग शामिल हो सकते हैं.

इस वायरस ने ना जाने कितने त्यौहारों की चमक फीकी कर दी है. वहीं स्वतंत्रता दिवस का जश्न भी इस बार फीका रहेगा. पीएम मोदी लाल किले की प्राचीर पर झंडा तो फहराएंगे लेकिन इस आजादी के जश्न में बच्चों और बुजुर्गों को शामिल नहीं किया जाएगा. ना ही ज्यादा भीड़ जुटने की इजाजत होगी.

वायरस न फैल सके इसके लिए 15 अगस्त तक इंडियन आर्मी, एयरफोर्स, नेवी और दिल्ली पुलिस के परेड में शामिल होने वाले तमाम अधिकारी और उनका का स्टाफ क्वारंटाइन रहेगा. 15 अगस्त की परेड में देश के पीएम के अलावा कई VVIP और VIP शामिल होते हैं. रेड कार्पेट पर गार्ड ऑफ ऑनर के वक्त खुद पीएम परेड कमांडर और जवानों के बीच से गुजरते हैं. इसको ध्यान में रखकर यह फैसला लिया गया है.

इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में शामिल होने वाले हर सरकारी वाहन को रोजाना सेनेटाइज करने का आदेश दिया गया है. वहीं इस स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले में पीएम मोदी को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा. 21 बंदूकों की सलामी के बाद पीएम मोदी का संबोधन होगा. कोरोना से बचाने के लिए लाल किले की प्राचीर पर खास तरह की कोटिंग की जा रही है.

इस स्वतंत्रता दिवस पर डेढ़ हजार कोरोना वाॉरियर्स शामिल होंगे. जिनमें दिल्‍ली पुलिस के 200 जवानों के अलावा पैरामिलिट्री फोर्सेज के जवान होंगे. इसके अलावा कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को भी बुलाया गया है. कोरोना को देखते हुए इस बार लाल किले पर खास इंतजाम किए गए हैं. मेटल डिटेक्टर के पास तैनात जवान पीपीई किट पहने दिखेंगे. साथ ही आने वाले लोगों के लिए सेनेटाइजर, दो गज की दूरी, मास्क और आरोग्य सेतु एप जरूरी है.

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए 15 अगस्त को राष्ट्रपति की ओर से ‘एट होम रिसेप्शन’ में कई कटौतियां की गई हैं. इस कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रपति भवन कन्वेंशन सेंटर में किया जाएगा. इस दौरान प्रवेश और निकास के लिए सख्त प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा. मेहमानों के आगमन के दौरान उनके लिए मास्क, सैनिटाइजर आदि की व्यवस्था की जाएगी.

वहीं इस बार कैबिनेट या मंत्रिपरिषद के सभी मंत्रियों की न्योता नहीं भेजा जाएगा. जानकारी के मुताबिक रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस जयशंकर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और गृह मंत्री अमित शाह को ही इस कार्यक्रम के लिए निमंत्रण भेजा जाएगा.