हरियाणा में कोरोना विषाणु महामारी घोषित, अलर्ट

  • प्रदेश के सभी सरकारी व निजी अस्पतालों में होगी जांच
  • सरकार ने किसी भी निजी लैब को जांच के लिए नहीं किया अधिकृत

चंडीगढ़, 12 मार्च (हि.स.). डब्ल्यूएचओ के बाद अब हरियाणा सरकार ने भी कोरोना वायरस को ‘हरियाणा महामारी विषाणु’ घोषित करके सभी विभागों को अलर्ट कर दिया है. सरकार ने प्रदेश के सभी सरकारी तथा निजी अस्पतालों को कोरोना के संदिगधों की जांच के लिए फ्लू स्क्रीनिंग कार्नर स्थापित करने के निर्देश जारी किए हैं.

हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा द्वारा जारी आदेश में प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक, मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च विभाग के निदेशक, सभी जिला उपायुक्तों, सभी सिविल सर्जन, एसडीएम, एसएमओ और स्वास्थ्य विभाग के अन्य संबंधित अधिकारियों को सतर्क रहने व आपस में तालमेल के निर्देश देते हुए कहा गया है कि सभी सरकारी तथा निजी अस्पताल कोरोना के संदिग्ध व्यक्तियों की जांच करेंगे.

इस जांच के दौरान संबंधित व्यक्ति का पूरा रिकार्ड तथा अगर वह विदेश से लौटा है तो उसकी विदेश यात्रा का रिकार्ड रखना भी अनिवार्य है.

सरकार ने सभी अस्पतालों को निर्देश जारी किए हैं कि अगर जांच के दौरान पिछले 14 दिन के भीतर इस बीमारी से संबंधित संदिग्ध प्रमाण मिलते हैं तो उसे आइसुलेशन वार्ड में भर्ती किया जाए. सभी अस्पताल ऐसे किसी भी संदिग्ध रोगी के मिलने पर तुरंत इसकी जानकारी सिविल सर्जन कार्यालय को देंगे और सिविल सर्जन कार्यालय द्वारा यह जानकारी निदेशालय को भेजी जाएगी.

हरियाणा सरकार ने प्रदेश वासियों को सोशल मीडिया या अन्य किसी प्लेटफार्म पर चल रही इस तरह की किसी भी सूचना को गंभीरता से न लेने की अपील करते हुए साफ किया है कि हरियाणा में किसी भी प्राइवेट लैब के पास कोरोना जांच के अधिकार नहीं हैं. भारत सरकार के निर्देशानुसार ही सैंपल एकत्र किए जा रहे हैं.

इसके बाद सरकार द्वारा तैनात किए गए नोडल अधिकारी के माध्यम से ही इनकी जांच करवाई जा रही है. ऐसे में अगर कोई भी लैब लोगों को गुमराह करके जांच कर रही है तो उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी.

हिन्दुस्थान समाचार/संजीव/बच्चन

Leave a Reply

%d bloggers like this: