बातचीत से निकलना चाहिए हल- सिद्धू

पुलवामा में CRPF दल पर हुए आतंकी हमले में 40 जवानों के शहीद होने से पूरे देश में गुस्से का माहौल है. देशभर से अब बदला लेने की आवाज उठ रही है. पीएम मोदी ने भी आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने की बात कही है.

वहीं कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने इस हमले पर बड़ा बयान दिया है. सिद्धू ने बातचीत से ही इसका हल निकलने की बात कही है.

सिद्धू ने कहा कि इस मुद्दे का परमानेंट सॉल्यूशन ढूंढना होगा, कब तक हमारे जवानों की जान जाती रहेगी. इसका हल बातचीत से निकलना चाहिए.

सिद्धू इससे पहले भी पाकिस्तान का सपोर्ट करते रहे हैं. उन्होंने तो यहां तक कहा था कि ‘भाषा और खान-पान’ की समस्याओं के कारण दक्षिण भारत जाने से बेहतर है ‘पाकिस्तान जाना’. मौजूदा हालातों में केंद्र सरकार हमेशा से पाकिस्तान को पूरी दुनिया में अलग-थलग करने की कोशिश करता है, लेकिन सिद्धू उसका पक्ष लेते रहे हैं.

सिद्धू लगातार पाकिस्तान जाते रहे हैं. और उनकी मेहमाननवाजी की खुलकर तारीफ करते रहे हैं. इससे पहले भी उन्होंने सुझाव दिया कि भारत पाकिस्तान में चल रहे तनाव का हल बातचीत से ही संभव है. उन्होंने कहा था कि दोनों देशों में 70 साल से दुश्मनी चली आ रही है, लेकिन क्या हल निकला. सरकार को शांतिवार्ता बंद नहीं करनी चाहिए.

हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि पूरा विपक्ष इस समय भारत सरकार और सेना के साथ खड़ा है. उन्होंने कहा कि ये हमला काफी बड़ा है, आतंकियों का मकसद देश को बांटना है. उन्होंने कहा कि हम हर शहीद के परिवार के साथ खड़े हैं, देश को कोई शक्ति नहीं तोड़ सकती है.

पुलवामा हमले में शहीद जवानों की संख्या 40 पहुंची. 38 पार्थिव शरीरों की पहचान कर ली गई है, जबकि अन्य की अभी भी पहचान की जा रही है.

%d bloggers like this: