मकर संक्रांति पर गंगा स्नानार्थियाें की भीड़ नियंत्रित करने के लिये किए गए व्यापक प्रबंध

  • मकर संक्रांति पर बक्सर की उतरायनी गंगा के 26 घाटोंं पर स्नानार्थियोंं की भीड़ उमड़ेगी. जिला प्रशासन ने हर घाट पर अधिकारियों के साथ गोताखोरों को भी तैनात किया है
  • सुविधा के नाम पर जिला प्रशासन ने विशेष तौर पर नाथ घाट और रामरेखा घाट पर ही ध्यान दिया जाता है

बक्सर, 14 जनवरी (हि.स.). अमूमन अंग्रेजी वर्ष कलेंडर के अनुसार 14 जनवरी को मनाया जाने वाला मकर संक्रांति पर्व इस बार हिन्दू पंचांगों के अनुसार 15 जनवरी को मनाई जायेगी. पूर्वांचल के क्षेत्रोंं में मिनी काशी के नाम से प्रसिद्ध बक्सर के घाटों पर भारी भीड़ उमड़ेगी. इसके लिये प्रशासन ने गंगा के घाटों पर सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किये हैं.

मकर संक्रांति पर बक्सर की उतरायनी गंगा के 26 घाटोंं पर स्नानार्थियोंं की भीड़ उमड़ेगी. जिला प्रशासन ने हर घाट पर अधिकारियों के साथ गोताखोरों को भी तैनात किया है. इसके अलावा विभिन्न धार्मिक संगठनों से जुड़ी संस्थाएंं भी श्रद्धालुओं के सहयोग के लिये व्यवस्थाएं की है.

सुविधा के नाम पर जिला प्रशासन ने विशेष तौर पर नाथ घाट और रामरेखा घाट पर ही ध्यान दिया जाता है. बक्सर जिले के दूरदराज निवासियों के अलावा सासाराम, कैमूर, करहगर और यूपी के उजियार,भरौली जैसे इलाकोंं हजारों श्रद्धालु गंगा स्नान के लिये आते हैं. इसलिये प्रशासन ने 14 जनवरी को रात्रि से ही 15 जनवरी की शाम तक शहर के मुख्य प्रवेश मार्गोंं पर कई जगह पार्किंग की व्यवस्था की है.

उल्लेखनीय है कि वैष्णवी, त्रिदंडी, औघड़, ब्रिपन्ना, संप्रदाय और नारायणी संप्रदाय केे धार्मिक संगठनों की अधिष्ठाता भूमि होने के कारण बक्सर के गंगा घाटों पर लाखोंं श्रद्धालु मोक्ष कामना के लिये प्रति वर्ष यहांं गंगा स्नान करने आते है.

हिन्दुस्थान समाचार /अजय

Also Read: Happy Makar Sankranti | Makar Sankranti 2020 | मकर संक्रांति 2020

Leave a Reply

%d bloggers like this: