गैंग्स ऑफ सोनभद्र- नरसंहार की पूरी कहानी

  • नरसंहार ने गैग्स ऑफ वासेपुर फिल्म की खौफनाक कहानी को वास्तव में दोहरा दिया
  • सोनभद्र जहां मूर्तिया के दम्भा गांव में जहां 32 ट्रैक्टरों पर सवार लगभग 300 से अधिक लोग गांव में घुसते हैं और लाशों का अम्बार लगा देते हैं

गैंग्स ऑफ सोनभद्र की कहानी दिल दहला देने वाली है. गोलियों की तड़तहाड़ फिर एम्बुलेंस के सायरन की आवाज, मातम का दर्दनाक शोर, जिसने आंसुओं का अंबार खड़ा कर दिया. गांव में के आस-पास पुलिस की नीली बत्ती वाली गाड़ियों की आवाज. और उन सब पर भारी वो चीखें जिसको सुनकर किसी का भी कलेजा कांप जाए. इस नरसंहार में दर्जनों लोगों को गोलियां लगी किसी का सर फट गया तो किसी के बाप-भाई- बेटे को मौत ने निगल लिया.

सोनभद्र जहां मूर्तिया के दम्भा गांव में 32 ट्रैक्टरों पर सवार लगभग 300 से अधिक लोग गांव में घुसते हैं और लाशों का अम्बार लगा देते हैं. गड़ासों से लोगों की गर्दनों पर वार करते हैं और रायफलें लहराते हुए चले जाते हैं. इस नरसंहार ने गैग्स ऑफ वासेपुर फिल्म की खौफनाक कहानी को वास्तव में दोहरा दिया. यूपी में हुए इस खून-खराबे से पूरा यूपी थर्रा गया.

आपसी रंजिश और जमीन विवाद में घोरावल के मूर्तिया गांव में खूनी संघर्ष हुआ. इस संघर्ष में 10 लोगों की मौत हो गई है. वहीं 23 से अधिक लोगों के घायल होने की खबर है. आपसी विवाद में धारदार हथियार और गोलियां चली. गोलियों की तड़तड़ाहट से इलाके में सन्नाटा पसरा है. जिनके घर के लोगों की हत्याएं हुई हैं उनके घर में मातम फैला है. इस विवाद में कई घरों के चिराग बुझ गए.

क्या है पूरा मामला-

  • दरअसल गांव के बाहर 100 बीघा जमीन है जिस पर गांव वाले कई पीढ़ियों से खेती कर रहे हैं.
  • गांव वालों ने बताया कि जमीन का एक हिस्सा प्रदान के नाम है. ग्राम प्रधान यज्ञदत्त ने एक आदमी से 100 बीघा जमीन खरीदी थी.
  • गांव वालों ने इस जमीन के बैनामे पर आपत्ति जताई और दाखिल- खारिज पर ऐतराज जताया.
  • जिससे नारा ग्राम प्रधान दूसरे गांव से 300 लोगों के साथ गांव में आ धमका और जमीन को जबरन जोतने का प्रयास किया.
  • विवाद दोपहर में इनता बढ़ा कि असलहों से लैस दो पक्षों में जमीन को लेकर हाथापाई होने लगी
  • विवाद गांव के प्रधान पक्ष और दूसरे पक्ष के बीच था.
  • देखते ही दोनों तरफ से लड़ाई होने लगी और फिर एक- दूसरे पर लोग गोलियां चलाने लगे तभी उसमें से कई लोगों ने गड़ासा और बांके से दूसरे पक्ष पर हमला बोल दिया जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई.
  • पुलिस को सूचना मिलते ही आनन-फानन में पुलिस पहुंची और मामले को शान्त किया.
  • वहीं घायलों को वाराणसी रेफर कर दिया गया है.

ग्रामीणों के अनुसार पंचायत मूर्तिया के उभ्भा गांव में कई दिनों से जमीन विवाद को लेकर हल्की- फुल्की नोंकझोंक होती रहती थी. पर जमीन विवाद की लड़ाई वर्चस्व की लड़ाई में तब्दील हो गई और बंदूक की नोंक पर जमीन कब्जा करने के लिए आपस में विवाद हो गया और फिर विवाद इतना बढ़ा कि दोनों पक्ष एक- दूसरे के खून के प्यासे हो गए.

आपस में दोनो के बीच गड़ासे और बांके चलने लगे. फिर गोलियां चली. जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने सभी लाशों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है और घायलों को वाराणसी ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया है. गांव में 10 मौतों के बाद मातम पसरा हुआ है.

मधुकर वाजपेयी / Madhukar Vajpayee

Trending Tags- Gangs of Wasseypur | Gangs of Sonbhadra | Aaj Ka Taja Khabar

Leave a Reply

%d bloggers like this: