पुलवामा में मुजफ्फरनगर का लाल शहीद, परिजनों को 50 लाख की सहायता देंगे सीएम योगी

Soldier from muzaffarnagar martyred in pulwama
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
  • परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देगी सरकार
  • शहीद के नाम पर किया जाएगा जनपद की एक सड़क का नामकरण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों से मुठभेड़ में शहीद हुए जनपद मुजफ्फरनगर निवासी सेना के जवान प्रशान्त शर्मा के शौर्य और वीरता को नमन करते हुए उन्हें अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि दी है.

मुख्यमंत्री ने शहीद के परिजनों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा की है. उन्होंने परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने तथा जनपद की एक सड़क का नामकरण शहीद के नाम पर करने की भी घोषणा की है.

मुख्यमंत्री ने कहा है कि राष्ट्र की रक्षा के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले शहीद के सर्वोच्च बलिदान को सदैव याद रखा जाएगा. उन्होंने शहीद प्रशान्त शर्मा के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि शोक की इस घड़ी में राज्य सरकार उनके साथ है. उन्होंने कहा कि शहीद के परिवार को हर संभव मदद प्रदान की जायेगी.

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के जूदर क्षेत्र में शुक्रवार की रात को एक सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों ने अचानक सेना के जवानों पर हमला बोल दिया. इस दौरान सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिराया. वहीं मुजफ्फरनगर के लाल बुढ़ाना मोड़ निवासी सेना के जवान प्रशान्त शर्मा बुरी तरह से जख्‍मी हो गए, उन्‍हें आर्मी अस्‍पताल ले जाया गया जहां पर उन्‍होंने दम तोड़ दिया.

जम्‍मू से सेना के अधिकारी ने मुजफ्फरनगर में शहीद प्रशान्त के घरवालों को उनकी शहादत की जानकारी दी. इस समाचार से पूरा परिवार स्‍तब्‍ध रह गया. प्रशान्त की शहादत की खबर से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई. राज्यमंत्री कपिल देव अग्रवाल और केन्द्रीय राज्य मंत्री डॉक्टर संजीव बालियान ने भी शहीद के घर पहुंच कर परिजनों को सांत्वना दी.

शहीद प्रशान्त शर्मा बागपत के गांव बिजरोल के मूल निवासी थे. 15 साल पहले परिवार मुजफ्फरनगर जिले के बुढ़ाना मोड़ पर शिफ्ट हो गया था. प्रशान्त के पिता सेना से सेवानिवृत हैं. प्रशान्त दो साल पहले ही भारतीय सेना में भर्ती हुए थे.

हिन्दुस्थान समाचार/संजय