Hariyali Teej katha :: मां पार्वती ने किया था भगवान शिव को पाने के लिए कठोर तप

shiv parvati
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

आज हरियाली तीज का त्योहार है. आज के दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और मंगल के लिए व्रत करती हैं और अविवाहित कन्याएं अच्छे घर और वर के लिए उपवास करती हैं

भगवान शिव के हरियाली तीज के दिन किया मां को स्वीकार

पौराणिक कथाओं के अनुसार माता पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी, अन्न-जल त्यागा, पत्ते खाए, सर्दी-गर्मी, बरसात में कष्ट सहे. इससे प्रसन्न होकर शिव ने हरियाली तीज के दिन ही माँ पार्वती को पत्नी रूप में स्वीकार किया था.

एक कथा ये भी प्रचलित है

भोलेनाथ ने पार्वती जी को उनके पूर्वजन्म का स्मरण कराने के लिए तीज की कथा सुनाई थी जिसमें भगवान शिव ने मां पार्वती को बताया कि उन्होने शिव को पति के रुप में पाने के लिए हिमालय पर घोर तप किया. ये सब देख तुम्हारे पिता दुखी थे एक दिन अचानक नारद जी तुम्हारे घर पधारे और भगवान विष्णु से विवाह का प्रस्ताव रखा तुम्हारे पिता तुंरत इस रिश्ते के लिए मान गए . भगवान विष्णु भी विवाह के लिए तैयार थे.

ये सब सुन तुम्हारा मन दुखी हो गया और तुम घने जंगल में जाकर रेत से शिवलिंग बनाकर तप करने लगीं इससे प्रसन्न होकर मैंने मनोकामना पूरी करने का वचन दिया. तुम्हारे पिता जब तुम्हें खोजते हुए जंगल पहुंचे. तुमने बताया कि अधिकांश जीवन शिवजी को पतिरूप में पाने के लिए तप में बिताया है. आज मेरा ये तप सफल रहा, शिवजी ने मुझे वचन दिया है. मैं आपके साथ एक ही शर्त पर चलूंगी यदि आप मेरा विवाह शिवजी से करवाएं.

माता पार्वती के पिता पर्वतराज ने जब ये सब सुना तो मां पार्वती की बात मान गए. पूरे विधि-विधान के साथ हमारा विवाह किया.

हरियाली तीज समय

हरियाली तीज 22 जुलाई यानि कल शाम 07 बजकर 23 मिनट से शुरू हो चुकी है जोकि आज 23 जुलाई को शाम 05 बजकर 04 मिनट तक रहेगी

पूजा का शुभ मुहूर्त समय

12:20 से 3:30, 5:00 से 6:30 तक है

किस समय पूजा ना करें

राहुकाल-दोष

1:30 से 3:00 के बीच राहु दोष होगा इस दौरान पूजा नहीं करनी चाहिए