सीके बिड़ला समूह कोविड-19 से लड़ने में 35 करोड़ का अशंदान करेगी

नई दिल्ली, 04 अप्रैल (हि.स.). सीके बिड़ला समूह ने कहा कि वह सरकार को कोविड-19 महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए 35 करोड़ रुपये का योगदान करेगा। वहीं नेस्ले  15 करोड़ और सीडब्ल्यूसी  5.65 करोड़ रुपये का अंशदान करेगी.

सीके बिड़ला समूह ने शनिवार को बयान जारी कर कहा कि कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए सरकार के साथ वह खड़ी है. समूह ने इससे लड़ने में मदद करने के लिए 35 करोड़ रुपये का योगदान देने की प्रतिबद्धता जताई  इसमें से 25 करोड़ रुपये की राशि पीएम केयर्स कोष में दी जाएगी, और बाकी के 10 करोड़ रुपये  राज्य सरकारों को चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति के लिए दी जाएगी.

समूह ने कहा, “कोविड-19 संकट हमारे समय का सबसे बड़ा संकट है। हमारा समर्थन और प्रयास और राष्ट्र की क्षमता से इस महामारी से सफलतापूर्वक पार पा लेंगे। सीके बिड़ला समूह  प्रौद्योगिकी और मोटर वाहन, भवन, स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में काम करती है.

सार्वजनिक क्षेत्र की केंद्रीय भंडारण निगम (सीडब्ल्यूसी) ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए पीएम-केयर्स कोष में 5.65 करोड़ रुपये का योगदान दिया है। उपभोक्ता मामलों तथा खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के तहत आने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की इकाई सीडब्ल्यूसी ने शनिवार को बयान में कहा कि उसने पीएम-केयर्स कोष में 5.65 करोड़ रुपये दिए हैं. मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि इसमें से पांच करोड़ रुपये सीएसआर कोष से दिए गए हैं। शेष 65.42 लाख रुपये कर्मचारियों की ओर से दिए गए हैं.

कर्मचारियों ने स्वैच्छिक रूप से अपना एक दिन का वेतन कोष में दिया है. उल्लेखनीय है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 मामलों की कुल संख्या 2,902 से अधिक हो गई और मृत्यु की संख्या 68 पहुंच गई है.

समूह ने कहा कि कोलकाता और जयपुर में समूह के स्वामित्व वाले अस्पताल संबंधित राज्य सरकारों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. इसके अलावा समूह की कंपनियों के कर्मचारी भी स्वैच्छा से से इस कोष में योगदान कर रहे हैं. कोलकाता और जयपुर में सीके बिरला समूह के स्वामित्व वाले अस्पताल संबंधित राज्य सरकारों के साथ काम कर रहे हैं.

नेस्ले करेगी 15 करोड़ रुपये का दान

रोजमर्रा के उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली प्रमुख कंपनी नेस्ले इंडिया लॉकडाउन (सार्वजनिक पाबंदी) के दौरान जरूरतमंद लोगों को अनिवार्य वस्तुएं उपलब्ध कराएगी. कंपनी ने इसके लिए शनिवार को 15 करोड़ रुपये का दान देने की घोषणा की. कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस राशि से अस्पतालों को कोरोना वायरस से निपटने में आवश्यक चिकित्सा उपकरण की खरीद में भी मदद की जाएगी. कंपनी ने दिल्ली-एनसीआर में वेंटिलेटरों की खरीद के लिए नारायण हृदयालय फाउंडेशन को पहले ही एक करोड़ रुपये का अनुदान किया है.

सीडब्ल्यूसी ने पीएम-केयर्स कोष में 5.65 करोड़ रुपये दिए

इसके अलावा सार्वजनिक क्षेत्र की केंद्रीय भंडारण निगम (सीडब्ल्यूसी) ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के खिलाफ लड़ाई के लिए पीएम-केयर्स कोष में 5.65 करोड़ रुपये का योगदान दिया है.

हिन्दुस्थान समाचार/गोविन्द

Leave a Reply

%d bloggers like this: