यूके में सुरक्षा के मद्देनजर चीनी छात्रों कर सकते हैं प्रतिबंध का सामना : रिपोर्ट

chinese students
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

चीन से मिली धमकी के बाद सुरक्षा को लेकर चिंतित ब्रिटेन में पढ़ने वाले चीनी छात्रों को प्रतिबंध का सामना करना पड़ सकता है. मीडिया रिपोर्ट से यह जानकारी मिली है.

रिपोर्ट के अनुसार बौद्धिक सम्पदा के खतरे को लेकर बढ़ रही चिंता के कारण ब्रिटेन का फॉरेन कॉमनवेल्थ डेवेलपमेंट ऑफिस उन बाहरी छात्रों को जो राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे विषयों पर पढ़ाई करना चाहते हैं, उन पर सख्ती करेगा.

पत्रकार लूसी फिशर की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा समिति में मंत्रियों ने इस साल की शुरुआत में सख्त नियमों पर हस्ताक्षर किए थे.

ब्रिटेन की शीर्ष रिसर्च प्रयोगशालाओं में पढ़ रहे छात्रों के बौद्धिक सम्पदा को चुराने के खतरे को लेकर बढ़ी चिंता के तहत यह कदम उठाए गए हैं. चीनी छात्रों पर आरोप है कि वह अमेरिका और ब्रिटेन में बौद्धिक सम्पदा की चोरी कर रहे हैं.

इन नए कदमों से सैकड़ों चीनी छात्रों के ब्रिटेन में प्रवश करने पर रोक लग जाएगी, जिन्होंने पहले से एनरोल किया हुई है. उनके वीजा निरस्त कर दिए जाएंगे.

थिंकटैंक हेनरी जैकसन सोसाइटी की हाल ही में जारी की गई रिपोर्ट से यह जानकारी मिली है कि चीनी यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट हुए 900 छात्र जो पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी से जुड़े हुए हैं उन्होंने ब्रिटेन की 33 यूनिवर्सिटी में एनरोल किया है.

साल 2018-19 में यूके की यूनिवर्सिटियों में पढ़ने वाले पोस्ट ग्रजुएट छात्रों में से 12 प्रतिशत चीनी छात्र थे. इन लोगों में से भी सैकड़ों छात्रों को अपनी आगे की पढ़ाई जारी रखने से रोका जा सकता है.

इससे पहले मई के महीने में अमेरिका ने भी इसी तरह का कदम उठाया था, जिसके तहत ट्रंप प्रशासन ने कई चीनी छात्रों और अनुसंधानकर्ताओं के अमेरिका में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगा दिया था और आरोप लगाया था कि यह बौद्धिक सम्पदा की चोरी कर रहे हैं.

हिन्दुस्थान समाचार/सुप्रभा सक्सेना