मंत्री जी, ये उम्मीद नहीं थी…
  • सोशल मीडिया पर बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का एक वीडियो वायरल हो रहा है
  • बिहार में चमकी बुखार के कहर को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने रविवार को बिहार का दौरा किया था

बिहार में चमकी बुखार से हाहाकार मचा हुआ है. प्रदेश में इस रहस्यमय बुखार से 124 बच्चे मौत के गाल में समां गए हैं. एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (AES) यानी चमकी बुखार का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है. सीएम नीतीश कुमार ने दिमागी बुखार से मरने वाले बच्चों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये मुआवजे का एलान किया है.

सीएम नीतीश नहीं पहुंचे मिलने

इस दिमागी बुखार से प्रदेश के 100 से ज्यादा घरों के दिये बुझ गए हैं. सीएम नीतीश कुमार ने पीड़ित परिजनों के लिए 4 लाख मुआवजे की घोषणा तो की है, लेकिन वे अभी तक किसी भी पीड़ित से मिलने नहीं पहुंचे. इसको लेकर अब विरोधी उन पर हमलावर हो गए हैं.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री का मैच पर ध्यान

सोशल मीडिया पर बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का एक वीडियो वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में मंगल पांडेय प्रेस कांफ्रेंस में मैच का स्कोर पूछते नजर आ रहे हैं. वीडियो जिस प्रेस कांफ्रेंस का बताया जा रहा है, वो प्रेस कांफ्रेंस केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की थी.

सोते दिखे अश्विनी चौबे

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे (Ashwini Kumar Choubey) सोते हुए दिखे थे. अब अश्विनी चौबे (Ashwini Choubey) इस पर सफाई देते नजर आ रहे हैं. अश्विनी कुमार चौबे से जब इस बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं मनन-चिंतन भी करता हूं, मैं सो नहीं रहा था.

बिहार में चमकी बुखार के कहर को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने रविवार को बिहार का दौरा किया था. इस दौरान उन्होंने अस्पताल पहुंचकर हालातों का जायजा भी लिया. इसके बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस भी किया था. इस दौरान एक ऐसी तस्वीर सामने आई, जिससे विपक्ष को सरकार को घेरने का मौका मिल गया.

तेज प्रताप ने बोला हमला

RJD अध्यक्ष लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने अब इस मामले में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर जमकर हमला बोला है. तेजप्रताप ने ट्वीट के जरिए सीएम नीतीश पर निशाना साधते हुए लिखा कि नीतीश बाबू हम राजनीति बाद में कर लेंगे अभी इन मासूमों की जिंदगी ज्यादा जरूरी है. कुछ भी कीजिए इन बच्चों को बचा लीजिए.

कब तक मरते रहेंगे मासूम?

बिहार के मुजफ्फरपुर में साल दर साल एक ही बीमारी से बच्चे मरते रहे हैं. चमकी बुखार के रोकथाम को लेकर अब तक जो भी कोशिशें की जा रही हैं वो नाकाम साबित हो रहे हैं. रोकथाम के नाम पर अमेरिका से जापान तक का दौरा होता रहा लेकिन कुछ नहीं हुआ. इस बार भी जब बच्चों की मौतें जारी हैं, तो स्वास्थ्य विभाग इलाज के बजाय ऊपर वाले के रहम पर भरोसा कर रहा है.

Trending Tags- Nitish Kumar | Narendra Modi | BJP | JDU | Dr. Harsh Vardhan | Chumky Bukhar

1 thought on “मंत्री जी, ये उम्मीद नहीं थी…”

Leave a Comment

%d bloggers like this: