CM Bhupesh Bhaghel का वीर सावरकर पर विवादित बयान, जिन्ना से की तुलना

रायपुर. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोमवार को नेहरू की 55वीं पुण्यतिथि पर स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर पर विवादास्पद बयान दिया है. प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में जवाहर लाल नेहरू व्याख्यान पर आयोजित कार्यक्रम में बघेल ने आरोप लगाते हुए कहा कि हिन्दू सभा के नेता वीर सावरकर ने देश विभाजन के बीजारोपण का कार्य किया था. जिसपर मोहम्मद अली जिन्ना ने अमल किया. ये इतिहास में दर्ज है. जिसे कोई झुठला नहीं सकता.

भूपेश बघेल ने कहा कि सावरकर ने देश की आजादी की लड़ाई लड़ी लेकिन जेल जाने के बाद अंग्रेजों को दर्जनों माफी पत्र लिखे और छूटने के बाद आजादी आंदोलन में शामिल नहीं हुए.

प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अपरोक्ष रूप से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोला और कहा कि प्रजातंत्र में जनता का सबसे बड़ा हथियार सवाल पूछना है. नेहरू जी इसके समर्थक थे और आज प्रधानमंत्री से आप सवाल नहीं कर सकते. आज नेहरू के भारत को बदलने की कोशिश की जा रही है. आज हम लोग जहां खड़े हैं तो उसमें सबसे बड़ा योगदान नेहरू जी का है.

नेहरू की 55वीं पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए भूपेश बघेल ने कहा कि नेहरू जी को बहुत से लोग जानते हैं पर उनको पढ़ने वाले कुछ लोग भी यहां बैठे हैं. उनकी एक प्रसिद्ध पुस्तक “भारत एक खोज” को जब हम पढ़ते हैं तो चकित हो जाते हैं. क्योकि उनकी किताब में इतिहास, भूगोल, कला, संस्कृति की जानकारी मिलती है.

आज नेहरू जी को देश नमन कर रहा है. उनके विचारों को भुलाया नहीं जा सकता है. भूपेश बघेल ने कहा कि नेहरू को जैसे ही देश की जिम्मेदारी मिली, उन्होंने देश का निर्माण किया. उन्होंने एम्स, परमाणु कार्यक्रम, अंतरिक्ष कार्यक्रम की शुरुआत की थी. उनकी दूरगामी सोच से हम भुखमरी, बेरोजगारी दूर करने में सफलता पाई. जिसकी एक मिसाल भिलाई स्टील प्लांट के रूप में हमारे प्रदेश में ही मौजूद है.

हिन्दुस्थान समाचार/रंजन

%d bloggers like this: