IPL 2019: दिल्ली कैपिटल्स का सपना चकनाचूर कर फाइनल में पहुंची चेन्नई सुपर किंग्स

खेल डेस्क. आईपीएल के दूसरे क्वालिफायर में दिल्ली कैपिटल्स को छः विकेट से हराकर चेन्नई सुपर किंग्स ने फाइनल में पहुंच गई. अब फाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स का मुकाबला 12 मई को मुंबई इंडियंस से होगा.

दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट के नुकसान पर 147 रन बनाए. जिसके जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी चेन्नई ने 19 ओवर में चार विकेट पर 151 रन बनाकर इस लक्ष्य को आसानी से हासिल कर दिया.

चेन्नई की तरफ से उसके सलामी बल्लेबाज फाफ डुप्लेसिस (39 गेंदों पर 50) और शेन वाटसन (32 गेंदों पर 50) ने अर्धशतक जमाए. इन दोनों खिलाड़ियों ने पहले विकेट के लिये 81 रन जोड़कर टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई.

इसके बाद सुरेश रैना ने 11 और एमएस धौनी ने 9 रन बनाए. वहीं अंबाती रायुडू 20 रन बनाकर नाबाद रहे. ड्वेन ब्रावो भी बिना खाता खोले नाबाद लौटे. दिल्ली के लिए ट्रेंट बोल्ट, ईशांत, अक्षर और अमित मिश्रा ने एक-एक विकेट चटकाया.

इससे पहले मैच में बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली ने खराब शुरूआत की और उसके दोनों सलामी बल्लेबाज सस्ते में पवेलियन लौट गए. दिल्ली की टीम आखिर तक अपनी खराब शुरूआत से नहीं उबर पाई.

दिल्ली ने एक समय 12.5 ओवर में सिर्फ 80 रन पर 5 विकेट गंवा दिए थे. मगर ऋषभ पंत ने एक छोर संभाले रखा और निचले क्रम के बल्लेबाजों के साथ मिलकर छोटी साझेदारियां निभाकर दिल्ली को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया.

पंत 38 रन के निजी स्कोर पर दीपक चाहर का शिकार बनें. जबकि कॉलिन मुनरों ने भी 27 रन की छोटी पारी खेली. इसके अलावा टीम के सभी बल्लेबाज चेन्नई के गेंदबाजों के सामने जूझते हुए नज़र आए.

चेन्नई के लिए चाहर, हरभजन, ब्रावो और जडेजा ने दो-दो विकेट हासिल किए. इनके अलावा इमरान ताहिर भी एक विकेट चटकानें में कामयाब रहें. चेन्नई का आईपीएल में यह 10वां सीजन है और उसने 8वीं बार फाइनल में जगह बनाई है.

चेन्नई ने दिल्ली के खिलाफ आईपीएल में अपनी 100वीं जीत दर्ज की है. चेन्नई से पहले ये कारनामा मुंबई इंडियंस के नाम है. चेन्नई इससे पहले 2008, 2010, 2011, 2012, 2013, 2015 और 2018 में फाइनल खेल चुकी है.

जबकि चेन्नई 2010, 2011 तथा 2018 में खिताब जीता था. यह लगातार दूसरा मौका है जब चेन्नई ने क्वालिफायर-2 में दिल्ली के खिलाफ लगातार दूसरी जीत हासिल की है. इससे पहले क्वालिफायर-2 में दोनों की भिड़ंत साल 2012 में हुई थी.

चेन्नई की टीम अब 12 मई को 3 बार की चैम्पियन मुंबई इंडियंस के साथ फाइनल खेलेगी. दोनों टीमें चौथी बार फाइनल में आमने-सामने होंगी. इससे पहले दोनों टीम साल 2010, 2013 और 2015 के फाइनल में भी एक-दूसरे के खिलाफ खेल चुकी है.

चेन्नई ने साल 2010 में मुंबई को हराकर खिताब अपने नाम किया था. जबकि मुंबई 2013 और 2015 में चेन्नई को हराकर आईपीएल खिताब जीत चुकी है. इस सीजन का फाइलनल जो भी टीम जीतेगी वह आईपीएल इतिहास की सबसे सफल टीम बन जाएगी.

%d bloggers like this: