चंद्रयान-2 ने चौथी बार सफलतापूर्वक कक्षा बदली, मिशन की सभी गतिविधियां सामान्य

  • भारत के दूसरे चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-2’ की सभी गतिविधियां सामान्य हैं
  • इसरो के मुताबिक पिछले महीने प्रक्षेपण के बाद से ‘चंद्रयान-2’ की चौथी बार कक्षा बदली गई

बेंगलुरू. चंद्रयान-2 के चांद पर पहुंचने का सफ़र जारी है. इसरो ने जानकारी देते हुए बताया कि चंद्रयान-2 शुक्रवार को धरती की चौथी कक्षा में प्रवेश कर गया.

भारत के दूसरे चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-2’ की सभी गतिविधियां सामान्य हैं. इसरो के मुताबिक पिछले महीने प्रक्षेपण के बाद से ‘चंद्रयान-2’ की चौथी बार कक्षा बदली गई.

इसरो के मुख्यालय ने एक बयान में कहा कि चंद्रयान-2 की कक्षा को 646 सेकेंड में चौथी बार सफलतापूर्वक परिवर्तित किया गया.

उसकी कक्षा में अगला परिवर्तन छह अगस्त को किया जाएगा. अब चार दिन बाद 6 अगस्त को चंद्रयान-2 आखिरी कक्षा में प्रवेश कर जाएगा.

चंद्रयान-2 तीसरी बार सोमवार 29 जुलाई को दोपहर तीन बजकर 12 मिनट पर कक्षा में सफलतापूर्वक और ऊंचाई पर पहुंचा दिया गया.

इससे पहले 24 और 26 जुलाई को पहली और दूसरी कक्षा में परिवर्तन कराया गया था. चंद्रयान-2’ का 22 जुलाई को प्रक्षेपण किया गया था.

इसके बाद 14 अगस्त से 20 अगस्त तक चांद की तरफ जाने वाली लंबी कक्षा में यात्रा करेगा. 20 अगस्त को ही यह चांद की कक्षा में पहुंचेगा.

इसके बाद 31 अगस्त तक वह चांद के चारों तरफ चक्कर लगाएगा. 1 सितंबर को विक्रम लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा और चांद के दक्षिणी ध्रुव की तरफ यात्रा शुरू करेगा.

जबिक 6 सितंबर लैंडर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा. लैंडिंग के करीब 4 घंटे बाद रोवर लैंडर से निकलकर चांद की सतह पर विभिन्न प्रयोग करने के लिए उतरेगा.

अगर यह मिशन सफल रहा तो रूस, अमेरिका तथा चीन के बाद भारत ऐसा चौथा देश होगा जो कि चांद पर यान की सॉफ्ट लैंडिंग करने वाले देशों में शामिल हो जाएगा.

Trending Tags – Chandrayan-2 | National News | Chandrayan-2 Updates |ISRO | Aaj Ka Samachar

Leave a Reply