पाकिस्तान में छात्र रैलियों के आयोजकों और कार्यकर्ताओं पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज

पाकिस्तान में हाल में निकाली गई छात्र रैलियों के आयोजकों और इसमें शामिल होने वाले छात्रों के खिलाफ पुलिस ने देशद्रोह का मामला दर्ज कर दिया है, जबकि एक छात्र नेता आलमगीर वजीर को गिरफ्तार कर लिया गया है.

समाचार पत्र डॉन के मुताबिक, सिविल लाइंस पुलिस ने कुछ प्रमुख छात्र नेताओं के अलावा करीब दो सौ से तीन सौ अज्ञात छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया है. सबसे दिलचस्प बात यह है कि सरकार के कई प्रतिनिधियों और मंत्रियों ने छात्रों की इस रैली का समर्थन किया था. बावजूद इसके पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ मुकदमा दायर किया है.

छात्र संघों की बहाली के लिए करीब 50 शहरों में छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया.इस बीच प्राथमिकी दर्ज करने वाले पुलिस निरीक्षक ने कहा कि छात्र नेता अपने भाषण के जरिए छात्रों को राज्य और उसकी संस्थाओं के खिलाफ उकसा रहे थे. इन छात्र नेताओं के भाषणों को रिकार्ड किया गया है.

पुलिस निरीक्षक जुल्फीकार हमीद ने कहा कि एक संदिग्ध आलमगीर खान को गिरफ्तार किया गया है. खान पंजाब विश्वविद्यालय का छात्र था और डिग्री लेने के लिए यहां आया था. लेकिन छात्र रैली को संबोधित किया और कहा कि अगर बलूचिस्तान के सैकड़ों युवा मारे नहीं गए होते तो इस रैली में छात्रों की संख्या और अधिक होती.

पुलिस का कहना है कि इस रैली में भाग लेने वाले अन्य संदिग्धों को भी पुलिस गिरफ्तार करेगी. उधर, प्रधानमंत्री इमरान खान ने छात्रों के प्रति अपना रुख नरम कर दिया है और छात्र संघों को फिर से बहाल करने का संकेत दिया है. साथ ही यह भी कहा है कि इस संदर्भ में वह एक आचार संहिता बनाएंगे जो विश्व के अन्य विश्वविद्यालयों से मेल खाएगा.

उन्होंने आगे कहा कि छात्र राजनीति से ही देश को नेता हैं, इसलिए छात्र संघों को बहाल किया जाएगा.

हिन्दुस्थान समाचार / कृष्ण

Leave a Reply