हरियाणा में भी रैफरंडम-2020 की गूंज, विदेश से आ रहे फोन

Referendum 2020
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

चंडीगढ़, हरियाणा।

हरियाणा में भी रैफरंडम-2020 को लेकर विदेश से फोन कॉल आनी शुरू हो गई है. इन फोन काल्स के माध्यम से गुरपतवंत सिंह पन्नू द्वारा लोगों को रैफरंडम के लिए वोटिंग करने को उकसाया जा रहा है. हरियाणा में पिछले दो दिन से आ रही फोन कॉल्स को लेकर गृहसचिव तथा डीजीपी ने गृहमंत्रालय को सूचित कर दिया है.

गरमपंथी विचारधारा वाले सिख समुदाय के लोग एक प्रतिबंधित संगठन के बैनर तले रैफरंडम-2020 का ऐलान कर चुके हैं. हालांकि पंजाब में यह मुद्दा गर्माने के चलते वहां की सरकार पहले से ही सतर्क है लेकिन हरियाणा में यह मामला पिछले दो दिन से ज्यादा गर्माया हुआ है.

सोमवार की सुबह चंडीगढ़ में कुछ पत्रकारों, पुलिस कर्मियों तथा हरियाणा के कई जिलों में लोगों को फोन कॉल आई. यह कॉल +17046844993 नंबर से आई है. कॉल करने वाले ने खुद को गुरपतवंत सिंह पन्नू बताते हुए पंजाब की आजादी की बात दोहराई है.

कॉल करने वाला व्यक्ति हरियाणा के सिखों को रैफरंडम के समर्थन में एकजुट होने की अपील करते हुए कहता है कि हरियाणा शुरू से ही पंजाब का हिस्सा रहा है. नए पंजाब के गठन में हरियाणा की भूमिका अहम होगी, इसलिए चार जुलाई से रैफरंडम के समर्थन में शुरू हो रहे वोट पंजीकरण में पंजाब के साथ-साथ हरियाणा के सिख भी अपना पंजीकरण करवाएं. जिससे नए पंजाब का सृजन हो सके.

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने इस बारे में राज्य के गृह सचिव विजयवर्धन और पुलिस महानिदेशक मनोज यादव से बातचीत की. पुलिस महानिदेशक ने बताया कि ऐसे तमाम मैसेज को प्रतिबंधित करने अथवा रोक लगाने के लिए केंद्र सरकार को अनुरोध भेज दिया गया है. टेली कम्यूनिकेशन से जुड़े तमाम मामले केंद्र सरकार के अधीन होते हैं. इसलिए इन पर रोक और प्रतिबंध की प्रक्रिया केंद्र शुरू करेगा.

डीजीपी के अनुसार ऐसे तमाम लोगों से यह नंबर और रिकॉर्डेड काल जुटाई जा रही है, जिनसे मैसेज भेजे जा रहे हैं. इन नंबरों का डाटा जुटाकर उनकी तह में जाया जाएगा और उन्हें कार्रवाई के लिए केंद्रीय संचार मंत्रालय को भेजा जाएगा.

हिन्दुस्थान समाचार/संजीव