इस देश में हेयर स्टाइल को लेकर हो रहा भेदभाव, बना कानून
  • दरअसल अमेरिका में हेरयस्टाइल को लेकर एक अश्वेत महिला से भेदभाव की घटना हुई थी
  • मिशेल ने बताया, उन्हें कई अश्वेत माता पिता से पत्र मिले हैं जिनमें स्कूलों में बच्चों से हेयरस्टाइल और बालों के रंग, बनावट के कारण शिक्षकों द्वारा भेदभाव

अमेरिका में अश्वेत अफ्रीकियों को अपनी हेयर स्टाइल और घुंघराले बालों के कारण भेदभाव का सामना करना पड़ता है. अमेरिका के कैलिफोर्निया ने कार्यस्थल और स्कूलों में हेयरस्टाइल को लेकर होने वाले भेदभाव को खत्म करने का विधेयक पारित कर दिया. ऐसा करने वाला वो अमेरिका का पहला राज्य बन गया है.

दरअसल अमेरिका में हेरयस्टाइल को लेकर एक अश्वेत महिला से भेदभाव की घटना हुई थी जिसके बाद लॉस एंजेलिस की डेमोक्रेटिक सीनेटर हॉली मिशेल ने इन मामलों पर रोक लगाने के लिए कानून लागू करने की मुहिम चलाई थी. वो खुद गुच्छेदार बालों वाला स्टाइल रखती हैं.

मिशेल ने बताया, उन्हें कई अश्वेत माता पिता से पत्र मिले हैं जिनमें स्कूलों में बच्चों से हेयरस्टाइल और बालों के रंग, बनावट के कारण शिक्षकों द्वारा भेदभाव बरतने के किस्से थे. उन्होंने क्राउन एक्ट नाम से इस विधेयक को पेश किया जिसका पूरा नाम ‘क्रिएट अ रिस्पेक्टफुल एंड ओपन वर्कप्लेस फॉर नेचुरल हेयर’ है.

इस कानून से जुड़े विधेयक पर गवर्नर गेविन न्यूसोम ने दस्तखत कर दिए. इससे पहले राज्य विधानसभा ने विधेयक को मंजूरी दे दी थी.

इससे पहले भेदभाव का प्रस्ताव न्यूजर्सी की विधानसभा में भी पेश किया गया था. ये कदम पिछले दिसंबर में एक अश्वेत पहलवान को बालों की चोटी यानि ड्रेडलॉक्स कटाने पर मजबूर होना पड़ा था. न्यूयॉर्क के मानवाधिकार आयोग ने फरवरी में स्कूलों, कार्यस्थल या रहने की जगह पर बालों और हेयरस्टाइल के चलते होने वाले किसी नस्लीय भेदभाव को लेकर दिशानिर्देश जारी किए गए थे.

Trending Tags- International News | Hindi Samachar | Hair Style

1 thought on “इस देश में हेयर स्टाइल को लेकर हो रहा भेदभाव, बना कानून”

Leave a Comment

%d bloggers like this: