कांग्रेस और भाजपा के कारण ही गरीबों का अब तक हो रहा है शोषण – मायावती

Mayawati
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp
  • मायावती ने कहा कि बाबा साहेब का मानवतावादी संविधान अगर इस देश में सही व सच्ची नीयत व नीति तथा पूरी निष्ठा व ईमानदारी के साथ लागू किया गया
  • बसपा सुप्रीमो ने कहा कि केन्द्र व यूपी सरकार हर उस नीति पर जबर्दस्ती काम कर रही है

बाबा आम्बेडकर की पुण्यति​थि पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने समतामूलक समाज के संकल्प को दोहराया

लखनऊ, 06 दिसम्बर (हि.स.). बहुजन समाज पार्टी(बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने शुक्रवार की सुबह पार्टी प्रदेश कार्यालय पर बाबा साहेब डाक्टर आम्बेडकर की पुण्यति​थि पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण व पुष्पांजलि कर श्रद्धा-सुमन अर्पित किया. इस मौके पर देश में उनकी मावनतावादी सोच पर आधारित जाति-मुक्त समतामूलक समाज स्थापित करने के संकल्प को दोहराया गया.

इस अवसर पर मायावती ने कहा कि बाबा साहेब का मानवतावादी संविधान अगर इस देश में सही व सच्ची नीयत व नीति तथा पूरी निष्ठा व ईमानदारी के साथ लागू किया गया होता तो पिछले 70 वर्ष में सर्वसमाज के गरीबों का शोषण काफी हद तक दूर हो गया होता.

भारत एक चिन्ता-मुक्त अग्रणी देश बन गया होता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ जिसके लिए अब तक केन्द्र में रही विभिन्न पार्टियों की सरकारें खासकर कांग्रेस व बीजेपी ही असली तौर पर जिम्मेदार व कसूरवार हैं.

उन्होंने कहा कि केन्द्र व देश के विभिन्न राज्यों में बाबा साहेब डाक्टर आम्बेडकर की सही व सच्ची मान्यता व सोच वाली सरकारें नहीं रही हैं. वे वोटों के लालच व स्वार्थ में बाबा साहेब का नाम लेती रहती हैं.

इस कारण बाबा साहेब आम्बेडकर के अनुयाइयों में से खासकर दलितों, आदिवासियों, अति-पिछड़ों, धार्मिक अल्पसंख्यकों शोषितों-पीड़ितों का वास्तविक सामाजिक, राजनीतिक व आर्थिक उत्थान नहीं हो पाया है. वे आज भी वंचित व उपेक्षित ही बने हुए हैं.

कहा कि आज उत्तर प्रदेश सहित देश की जो दुर्दशा है उसका सबसे ज्यादा शिकार यहाँ के करोड़ों गरीब, उपेक्षित व मेहनतकश लोग ही हो रहे हैं. उनका व उनके परिवार का भविष्य लगातार अनिश्चितता के दांव पर लगा हुआ है.

उन्होंने कहा कि देश में खासकर महिला वर्ग व हर वर्ग के करोड़ों बेरोजगार लोगों का जीवन आज तनाव व त्रस्त बना हुआ है, क्योंकि केन्द्र व खासकर यूपी सरकार बड़े-बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों की ही समर्थन में केवल काम करती हुई नजर आती है.

देश की बड़ी-बड़ी सम्पत्तियों व कम्पनियों को, जिनसे सर्वसमाज के लोगों को रोजगार की आस बनी रहती है, औने-पौने में निजी कम्पनियों के हवाले किये जाने की गलत नीति पर अमल किया जा रहा है. इन सबसे देश में निराशा का माहौल है.

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि केन्द्र व यूपी सरकार हर उस नीति पर जबर्दस्ती काम कर रही है, जिससे देश की साव सौ करोड़ जनता में सुख-शान्ति नहीं, बल्कि ज्यादातर अशान्ति व अफरा-तफरी ही फैलेगी, जिस आशंका से पूरा देश त्रस्त व परेशान नजर आता है. इसमें नागरिकता कानून में संशोधन करने का प्रयास भी शामिल है.

Trending News: Latest News of Mayawati | Aaj ka Samachar

हिन्दुस्थान समाचार/उपेन्द्र/राजेश