BSF ने जम्मू अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर 25 करोड़ की हेरोइन पकड़ी

पाकिस्‍तान घाटी में न केवल आतंकी वारदातों को लगातार अंजाम दे रहा है, बल्कि वहां के नौजवानों को नशे की गिरफ्त में लेने की साजिश भी रच रहा है. बीएसएफ की चौकसी के चलते पाकिस्‍तान की इस साजिश को फिलहाल नाकाम कर दिया गया है. भविष्‍य में घुसपैठ और ड्रग्‍स तस्‍करी की साजिश को नाकाम करने के लिए बीएसएफ ने बार्डर पर अपनी निगाहे अधिक पैनी कर दी है.

अंतर्राष्ट्रीय सीमा (IB) पर अपनी सतर्कता बढ़ाते हुए, BSF ने आज एक बड़ी सफलता हासिल की जब उसने जम्मू अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर लगभग 5 किलोग्राम हेरोइन बरामद की.

BSF RECOVERS HEROIN

विश्वसनीय सूचना पर BSF-आईनगर, DRI-जम्मू और BSF 36-बीएन बटालियन के जवानों ने एक संयुक्त रूप से एक विशेष तलाशी ऑपरेशन चलाया. सेकेंड इन कमांड संजय गुलेरिया के नेतृत्व में बीएसएफ की टीम ने फाल्कू नाले में एक प्लास्टिक कैन की बरामद की.

सर्च ऑपरेशन में पता चला कि कैन में ड्रग्स भरी हुई थी. जानकारी के मुताबिक टीम को 5 किलोग्राम ड्रग्स बरामद हुई. जिस जगह पर ड्रग्स बरामद हुई वो अंतर्राष्ट्रीय बाउंड्री से तकरीबन 100 मीटर अंदर भारतीय सीमा के अंदर है. अंतर्राष्ट्रीय सीमा का ये इलाका छोटे नालों और जंगल से घिरा हुआ है, जिसके चलते तस्कर यहां आसानी से छुप सकते हैं.

BSF RECOVERS HEROIN

जम्मू अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर तस्करी का ये पहला प्रयास था, जिसे बीएसएफ ने नाकाम कर दिया है. पिछले साल दिसंबर 2018 में, बीएसएफ ने DRI-जम्मू के साथ संयुक्त रूप से सर्च ऑपरेशन चलाया था, जिसमें 3 किलोग्राम हेरोइन बरामद की गई थी.

बीएसएफ के मुताबिक, BSF I-Nagar कुछ समय से संभावित ड्रग्स तस्करी पर काम कर रहा है. यह संदेह है कि यह खेप कुख्यात पाक तस्कर चौधरी अकरम द्वारा चलाए जा रहे पाक तस्करी समूह के लिए काम करने वाले स्थानीय भारतीय तस्करों के माध्यम से पंजाब ले जानी थी.

बीएसएफ की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक अन्य एजेंसियों के साथ मिलकर बीएसएफ स्थानीय तस्करों की पहचान करने और उन्हें बंद करने और नेटवर्क को तोड़ने के लिए इनपुट विकसित कर रही है. उन्होंने कहा कि पिछले दो मामलों में देखा गया है कि तस्कर conceal and clear का तरीका अपना रहे हैं.

Leave a Reply

%d bloggers like this: