#Election2019: बीजेपी दलितों से दिखा रही नकली प्रेम : मायावती

लखनऊ. बीजेपी दलितों से नकली प्रेम दिखा रही है. बीजेपी को यदि असली प्रेम होता तो अलवर कांड को छोड़कर अपने शासित प्रदेशों में दलितों पर हो रहे अत्याचार को बंद कर देती. पीएम मोदी अपने निजी स्वार्थ के कारण प्रधानमंत्री अलवर कांड को दोहरा रहे हैं.

ये बातें बसपा प्रमुख मायावती ने कही. वो 11 और 12 मई प्रधानमंत्री द्वारा अलवर कांड पर स्वयं पर उठाये गये सवालों का जवाब लखनऊ प्रेसवार्ता कर दे रही थीं.

उन्होंने कहा कि राजस्थान में हम अभी सरकार द्वारा की जा रही कार्रवाई का इंतजार कर रहे हैं. यदि हमको लगा कि दलित वर्ग के साथ न्याय नहीं हुआ तो बसपा कांग्रेस से अपना समर्थन वापस ले लेगी. इसमें पीएम मोदी को किसी नसीहत की जरूरत नहीं है. प्रधानमंत्री मोदी के दबाव के बाद सोमवार को बसपा सुप्रीमो मायावती परेशान दिंखी और आनन-फानन में मीडिया से रूबरू हुईं. और अपने बयान में कहा कि अलवर घटना के मामले में अगर कांग्रेस सरकार कठोर कार्रवाई नहीं करती तो बसपा सरकार से समर्थन वापस ले सकती है.

मायावती ने कहा कि यदि उन्हें गरीबों की चिंता होती तो गरीबों 15 लाख देने की बात कही थी. उसे अपनी सरकार बनने के बाद पूरा कर दिया होता लेकिन चुनाव बाद उसे जुमला कहकर खारिज कर दिया गया. इन्होंने नोटबंदी को लागू किया उससे गरीबों की तादाद बढ़ी है.

‘गरीबी का नाटक कर रहे पीएम मोदी’

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी न तो गरीब हैं और न ही फकीर हैं. ये सिर्फ गरीबी का नाटक कर रहे हैं. हालांकि पिछले चुनावों में कहते रहे है कि वे पिछड़ी जाति के हैं. जबकि किसी विपक्षी जाति पर टिप्पणी नहीं कर रहे हैं. उनकी टिप्पणी पर मायावती ने कहा कि वे कागजी पिछड़ी जाति के हैं. उन्होने अपनी अगड़ी जाति को ही अपनी सरकार में पिछड़ी जाति में शामिल करवा लिया. यदि वे सच में पिछड़ी जाति के होते तो फिर इनको दलित या पिछड़े वर्ग के लोगों के बंगले इन्हें अखरते नहीं.

उन्होंने दलित और पिछड़े मतदाताओं से नरेंद्र मोदी की बातों से सावधान रहने के लिए आगाह किया. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी आखिरी चरण के चुनाव में मान मर्यादा ताख पर रख सकते हैं. इसका जवाब हमारे लोगों को सत्ता से बाहर करके ही देना होगा.

पीएम का माया पर वार

12 मई कुशीनगर में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर अलवर की दलित घटना को लेकर जमकर प्रहार किया था और कहा कि वे दलितों के नाम पर घड़ियालू आंसू बहाती हैं।
हिन्दुस्थान समाचार/ उपेन्द्र

%d bloggers like this: