बिहारः सरकार ने बैंको को दिया निर्देश, हर व्यक्ति का खुले खाता

Sushil Kumar Modi
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में हर बिहारी के पास बैंक अकाउंट होगा. उन्होंने बताया कि राज्य स्तरीय बैंकर्स कमिटी की बैठक में बैंकों को लक्ष्य दिया गया कि वे सुनिश्चित करें कि हर व्यक्ति का अपना एक बैंक खाता हो.

उन्होंने कहा कि इसके साथ ही बैंक की नई शाखाएं, ग्राहक सेवा केन्द्र खोलने और नई एटीएम लगाने की कार्ययोजना बनाएं जिससे बिहार के सभी 44 हजार गांव आच्छादित हो सके. बिहार के 12 लाख दुग्ध उत्पादक किसान जो मिल्क यूनियन से जुड़े हैं के साथ फिशरी, पॉल्ट्री एवं पीएम किसान निधि में निबंधित किसानों में से वंचित को केसीसी दिया किया जाए.

इसके साथ ही वार्षिक साख योजना की उपलब्धि व साख-जमा अनुपात में कमी पर नाराजगी भी जताई गई. सुशील मोदी ने कहा कि बिहार में 10 करोड़ 12 लाख सक्रिय बैंक खाते हैं. जिनमें 7 करोड़ 76 लाख आधार व 6 करोड़ 98 लाख मोबाइल से जुड़े हुए हैं.

उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के ढाई महीने के दौरान केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा 14 हजार 300 करोड़ रुपये सीधे गरीबों के जनधन खाते में भेजा गया है. उन्होंने बताया कि अब सरकार बड़े पैमाने पर लोगों का आधार कार्ड बनवा रही है. उन्होंने कहा कि बैंकों को निर्देश दिया गया कि दुग्ध उत्पादक किसानों को बिना गारंटी के लोन दिया जाए.

सुशील मोदी ने बताया कि 31 जुलाई तक विशेष अभियान चला कर मिल्क यूनियन से जुड़े 12 लाख दुग्ध उत्पादक किसानों को केसीसी के तहत बिना किसी बंधक के 1.60 लाख का लोन दें. पिछले वर्ष 1.66 लाख को ही किसान क्रेडिट कार्ड दिए गए थे.

सरकार ने निर्देश दिया कि पीएम किसान निधि के तहत निबंधित केसीसी से वंचित सभी किसानों को किसान क्रेडिट की सुविधा दी जाए. इसके लिए एलपीसी को डिजिटल कर दिया गया है, अब बैंक सीधे पोर्टल पर जाकर जांच कर सकेंगे.

सुशील मोदी ने कहा कि बिहार में 17 हजार 288 बैंक मित्र हैं, जो ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राहक सेवा केन्द्र के जरिए बैंकिंग सेवा देते हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में मात्र 1209 एटीएम है. एसएचजी समूह से जुड़ी महिलाओं को बैंक सखी बनाने के साथ ही सभी गांवों में सीएससी की सुविधा उपलब्ध कराएं.

वर्ष 2018-19 की 44.09 फीसदी की तुलना में 2019-20 में साख-जमा अनुपात 43.03 प्रतिशत रहने व वार्षिक साख योजना की उपलब्धि पिछले वर्ष से 11.60 प्रतिशत कम रहने पर नाराजगी जताने के साथ ही कोरोना काल में समर्पित भाव से सतत सेवा देने के लिए बैंक कर्मियों को धन्यवाद दिया गया.