बिहार चुनावः चिराग की बगावत से BJP नाराज, केंद्र में भी NDA से किए जा सकते हैं बाहर

Sanjay Jaiswal
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

बिहार चुनाव के लिए एलजेपी अध्यक्ष ने अलग होकर लड़ने का फैसला किया है. उन्होंने साफ कर दिया है कि वे एनडीए का हिस्सा बने रहेंगे, लेकिन नीतीश कुमार का नेतृत्व स्वीकार नहीं करेंगे. उन्होंने बीजेपी का मुख्यमंत्री बनने पर समर्थन करने को कहा है.

बीजेपी के लिए भले ये फायदे का सौदा हो, लेकिन बीजेपी ने साफ कर दिया है कि वो नीतीश कुमार के नाम पर ही चुनाव लड़ेगी. बिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा कि बिहार में बीजेपी नीतीश कुमार नाम पर ही चुनावी मैदान में उतर रही है.

चिराग पासवान को लेकर एक सवाल का जवाब देते हुए जायसवाल ने साफ कहा कि एनडीए में वही लोग रहेंगे, जो नीतीश कुमार को स्वीकार करेंगे. जायसवाल ने चिराग को स्पष्ट शब्दों में चेतावनी दी है कि एनडीए का हिस्सा बने रहने के लिए नीतीश कुमार को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है.

जायसवाल ने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार ही गठबंधन का चेहरा हैं. उन्होंने कहा कि बिहार में बीजेपी नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकार करती है. और सभी लोगों को उनको मानना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि एनडीए गठबंधन में वही लोग रहेंगे, जो नीतीश कुमार के नेतृत्व को बिहार में स्वीकार करते हैं.

वहीं इससे पहले चिराग पासवान ने जनता के नाम एक खुली चिट्ठी लिखी. जिसमें उन्होंने एलजेपी-बीजेपी की सरकार बनने का दावा किया. उन्होंने जनता से आरजेडी उम्मीदवारों को वोट नहीं करने की अपील की.

अपने पत्र में चिराग ने लिखा कि एलजेपी के सभी विधायक पीएम मोदी के नेतृत्व में काम करेंगे. चिराग ने कहा कि यह निर्णायक क्षण है. जदयू प्रत्याशियों को दिया गया एक भी वोट कल आपके बच्चों को पलायन पर मजबूर करेगा.

चिराग ने लिखा कि आज राष्ट्रहित और बिहार हित में सही फैसला लेने का निर्णय है. बिहार और बिहारवासियों के हित के फैसले को लेकर उनके बीच जाऊंगा. चिराग ने बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट का नारा दिया. चिराग ने पत्र में अपने पिता के स्वास्थ्य को लेकर भी चिंता जाहिर की.